पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फ्लाईओवर की सेफ्टी के लिए बनाए गाइड बंध टूटे:गुणवत्ता पर उठे सवाल, यमुना में आए 42 हजार क्यूसेक पानी काे भी नहीं झेल पाए गाइड बंध

जठलाना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जठलाना|यमुना नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी होने पर टूटे गाइड बंध। - Dainik Bhaskar
जठलाना|यमुना नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी होने पर टूटे गाइड बंध।

यमुना नदी के नगली घाट पर 104 करोड़ की लागत से बन रहे ओवरब्रिज की सेफ्टी के लिए साइड में बनाए गए गाइड बंध यमुना नदी में आए 42 हजार क्यूसेक पानी काे भी नहीं झेल पाए। पानी के दबाव से गाइड बंध टूट गए।

क्षेत्रवासियों का कहना है कि यमुना नदी में अभी नाममात्र ही पानी आया था, लेकिन यहां ओवरब्रिज की सेफ्टी के लिए बनाए गए गाइड बंध टूट गए। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जब यमुना नदी में लाखों क्यूसेक पानी आएगा तो गाइड बंधाें का क्या होगा। क्षेत्रवासी वरयाम सिंह, हरनाम, सतनाम अनिल, अमीलाल व सोनू का कहना है कि लोगों की वर्षों पुरानी मांग पर यमुना नदी के नगली घाट पर ओवरब्रिज के कंस्ट्रक्शन का कार्य किया जा रहा है। लेकिन यहां कंस्ट्रक्शन के कार्य में प्रयोग हो रही है निर्माण सामग्री की गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे हैं।

अभी यमुना नदी के जलस्तर में हल्की सी बढ़ोतरी ही हुई थी कि ओवरब्रिज की सेफ्टी के लिए बनाए गए गाइड बंध टूट गए। इससे ओवरब्रिज किस प्रकार सुरक्षित रहेगा, इस बात का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि करोड़ों रुपए की राशि से यहां ओवरब्रिज के कंस्ट्रक्शन का कार्य चल रहा है। लेकिन जलस्तर में हल्की सी बढ़ोतरी होने पर गाइड बंध का टूट जाना चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि ओवरब्रिज के कंस्ट्रक्शन कार्य में प्रयोग हो रही निर्माण सामग्री की जांच होनी चाहिए। वे इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री से मिलेंगे और मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग करेंगे।

खबरें और भी हैं...