पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लेटलतीफी:विस पिटीशन कमेटी की टीम ठेकेदार व अफसरों से बोली- जुबानी दावे नहीं चलेंगे, तीन दिन में लिखित रिकॉर्ड लाओ

यमुनानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 8 वार्डों में दो माह में लगनी थी एलईडी लाइट्स, 16 माह से इन वार्ड में काम अधूरा तो दूसरे वार्डों के नहीं हो पाए टेंडर

आठ वार्डों में 3.63 करोड़ से एलईडी लाइट्स लगाने के लिए अक्टूबर-2019 में टेंडर व वर्क अलॉट हुए। टेंडर में काम पूरा करने की अवधि दो माह थी लेकिन 16 माह में भी काम अधूरा है क्योंकि काम शुरू होते ही 8 वार्डों में जो लाइट लगे, उनकी गुणवत्ता पर सवाल उठाते हुए पार्षदों ने मेयर व विधायक और मौजूदा व पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर ने विस पिटीशन कमेटी में शिकायत दे दी।

तब से 8 वार्डों में काम अटका है, वहीं दूसरे वार्डों के टेंडर नहीं लगे। मामले में जांच के लिए तीन कमेटियां बन चुकी हैं, जिनमें निगरानी, टेक्निकल के बाद विस पिटीशन कमेटी की टीम की जांच जारी है। टीम के रेंडम सर्वे में लाइट्स बंद या खराब मिले, तब इन्हें बदलने को 15 दिन की मोहलत दी थी। इस दौरान कितने लाइट लगे व ठीक हुए? ये क्रॉस चेक करने को टीम ने जिमखाना क्लब में मीटिंग बुलाई। इसमें ठेकेदार व अफसरों के जुबानी दावे सुन विस पिटीशन कमेटी की टीम ने तीन दिन में लिखित में रिकॉर्ड मांग लिया।

बता दें कि विस पिटीशन कमेटी की गठित तीन सदस्य टीम में निगरानी कमेटी के सदस्य गिरीश पुरी, सीनियर डिप्टी मेयर प्रवीन शर्मा उर्फ पिन्नी व पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर पवन बिट्टू शामिल हैं। बैठक में तीनों के अलावा आठों वार्ड से पार्षद भी बुलाए गए, जिनमें वार्ड-6 से प्रीति जौहर, वार्ड-21 से अभिषेक मोदगिल, वार्ड-19 से उषा, वार्ड-15 से प्रिंस व वार्ड-8 से विनोद मरवाह पहुंचे जबकि अन्य चार वार्डों के पार्षदों से फोन पर हुई।

नगर निगम से एसई आनंद स्वरूप, एमई मृणाल जायसवाल व ठेकेदार से टीम के सदस्यों ने 8 वार्डों में कितने लाइट लगे व ठीक हुए, पूछा। उन्हें क्रॉस चेक करने को यही सवाल पार्षदों से हुआ लेकिन अफसरों व ठेकेदार के वार्ड वाइज लगाए व ठीक किए लाइटों की संख्या मुंहजुबानी बताने पर विस पिटीशन कमेटी की टीम ने तीन दिन का समय देकर लिखित में रिकॉर्ड मांग लिया। पिटीशन कमेटी की गठित टीम के गिरीश पुरी ने बताया कि जिस कंपनी के लाइट लगे, उससे 5 साल की गारंटी है। इसका फायदा तब ले पाएंगे, जब उनकी नंबरिंग सहित रिकॉर्ड मेंटेन हो। तभी ऐसे निर्देश दिए हैं।

ऐसे लिखित रिकॉर्ड करना होगा पेश
आठ वार्डों में जो लाइट लगे व ठीक हुए, उनकी व पोल के नंबर फीड कर रिकॉर्ड मेंटेन करना होगा। इसके लिए मौके पर एमसी को बुलाकर उसे लाइट व पोल नंबर दिखाकर साइन कराने होंगे। पोल के साथ के दो घर या दुकान वालों के भी नाम, मोबाइल सहित साइन लेने होंगे।

इसके आधार पर विस पिटीशन कमेटी में वास्तविक रिपोर्ट दाखिल करने के लिए गठित टीम क्रॉस चेकिंग कर सकेगी। इस तरह मेंटेन किया रिकॉर्ड नगर निगम को लाइट खराब होने की शिकायतों के समाधान में भी काम आएगा। साथ ही लाइट व पोल नंबर होने से एक वार्ड में लगीं लाइट को उतार कर दूसरे वार्ड में लगा दिखाए जाने की आशंका भी नहीं रहेगी।

अक्टूबर 2019 में दो अलग-अलग टेंडर हुए थे कॉल
वार्ड-2, 8, 9, 21 और 6, 10, 15, 19, इन चार-चार वार्डों के अक्टूबर-2019 में अलग-अलग दो टेंडर कॉल हुए थे। 3.63 करोड़ के दोनाें टेंडर रिप्लेसमेंट एंड इंप्रूवमेंट ऑफ स्ट्रीट लाइट वर्क के नाम पर थे। इसमें सोडियम को एलईडी लाइट में कन्वर्ट करना था।

काम अलॉट होने पर जैसे ही शुरू हुआ, तभी पार्षदों ने लाइट्स की गुणवत्ता पर सवाल कर मेयर व विधायक को शिकायत दे दी। बाद में पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर पवन बिट्टू व मौजूदा सीनियर डिप्टी मेयर प्रवीन शर्मा उर्फ पिन्नी ने विस पिटीशन कमेटी में शिकायत दी। वहां सुनवाई के बाद कमेटी की गठित तीन सदस्य टीम को रिपोर्ट देने के लिए निर्देश हुए। रिपोर्ट पर कमेटी भी अपने स्तर पर एक्सपर्ट भेज क्रॉस चेक कर सकती है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें