मीटिंग का कोई असर नहीं:मुख्य प्रशासक सोमवार को ली थी मीटिंग, मंगलवार को मंडी की बजाए सीधा फैक्ट्रियों में गई लकड़ी, आज हो सकती है सख्ती

यमुनानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लक्कड़ मंडी से घटती मार्केट फीस को लेकर सोमवार को मार्केटिंग बोर्ड के मुख्य प्रशासक विनय सिंह द्वारा ली गई मीटिंग का असर मंगलवार को नहीं दिखा। पहले की तरह मंडी की जाए सीधा लकड़ी फैक्ट्रियों में पहुंची। वहीं, कोई टीम चेकिंग करती भी नहीं दिखी। इस तरह से मंगलवार को भी लाखों रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ है। माना जा रहा है कि आज यानी बुधवार को मीटिंग का असर देखने को मिल सकता है। लक्कड़ मंडी और आढ़तियों के बीच यह चर्चा है कि बुधवार को टीमें चेकिंग पर आएंगी।

 वहीं, बताया जा रहा है कि सोमवार को लघु सचिवालय में मीटिंग के बाद मुख्य प्रशासक जब मार्केट कमेटी के ऑफिस में मीटिंग लेने पहुंचे थे तो वहां पर कर्मचारियों की कार्यशैली को लेकर वे नाराज हुए थे। कई को डांट भी लगाई थी और कहा था कि अपनी पावर का इस्तेमाल करते हुए हर हाल में मंडी के माध्यम से ही लकड़ी की खरीद फरोख्त कराएं।

बता दें कि 27 अगस्त को लक्कड़ मंडी आढ़ती हड़ताल पर चले गए थे। इस पर मार्केट कमेटी सचिव ने उन्हें मनाया। तब एक सप्ताह में उनकी मांगों को लेकर विवाद सुलझाने की बात कही गई थी, लेकिन कोई फैसला नहीं हो पाया। मंडी तभी से बंद है और हर दिन आने वाला हजारों क्विंटल लकड़ी बिना बिल के बिक रही है। जिससे सरकार को लाखों रुपए का नुकसान हो रहा है। तब आढ़तियों ने मार्केट कमेटी के अधिकारियों पर मनमानी के आरोप लगाए थे। लकड़ी पर दो प्रतिशत मार्केट फीस और 18 प्रतिशत जीएसटी सरकार के पास जाता है।

खबरें और भी हैं...