पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शहर को मिलेगा एक और बाईपास:शहर में ट्रैफिक दबाव होगा काम,10 गांव में जमीन एक्वायर के लिए नोटिफिकेशन जारी

यमुनानगर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
यमुनानगर| शहर के महाराणा प्रताप चौक पर लगा जाम। - Dainik Bhaskar
यमुनानगर| शहर के महाराणा प्रताप चौक पर लगा जाम।
  • कई साल पहले सीएम ने कहा था, इसकी प्लानिंग कर रहे, अब उस पर काम भी शुरू हुआ

शहर को एक और बाईपास मिलने की प्रकिया शुरू हो चुकी है। यह रिंग रोड दस गांव से होकर गुजरेगा। इसे बनाने के लिए जमीन एक्वायर के लिए एनएचएआई ने नोटिफिकेशन जारी किया है। जमीन एक्वायर के बाद इस पर तेजी से काम होने की उम्मीद है। जिस तरह से शहर में ट्रैफिक दबाव है, उसे देखते हुए यह रिंग रोड शहर की जरूरत है।

यह रोड अम्बाला जगाधरी रोड से होकर पांवटा साहिब हाईवे तक आएगी। इसकी घोषणा सीएम मनोहरलाल ने कई साल पहले की थी। हालांकि तब उन्होंने कहा था कि इस पर प्लानिंग कर रही है। अगर विजिबिलिटी बनी तो जरूर बनवाएंगे। अभी शहर में कैल से कलानौर तक बाईपास है। जोकि करीब चार साल से चल रहा है।

एनएचएआई के मैनेजर गगन कुमार ने बताया कि जिस तरह से यमुनानगर के एक तरफ बाईपास है, अब दूसरी तरफ बाईपास बनाने की प्लानिंग है। जमीन को लेकर जो नोटिफिकेशन जारी किया गया है, यह उसी का हिस्सा है।

उम्मीद बढ़ी | लोग लंबे समय से कर रहे बाईपास का इंतजार
जिस एरिया में रोड बनाई जानी है, उस एरिया के लोग लोग लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं। क्योंकि उन्हें लगता है कि अगर यहां से रिंग रोड निकलती है तो इस एरिया में भी तरक्की होगी। इस एरिया में काफी प्लाईवुड फैक्टरियां भी लगी हैं। उनके मालिकों को भी लगता है कि रिंग रोड बनने से उन्हें माल मंगवाने और भेजने में सुविधा होगी।

पहले नलवी नहर के साथ-साथ बनाया था रोड| इससे पहले एक रोड दादूपुर नलवी नहर के साथ-साथ बनाया गया था। इसका भी ये ही उद्देश्य था कि शहर में ट्रैफिक दबाव कम किया जाए। जो वाहन पांवटा साहिब जाने वाले हैं या फिर पांवटा से अम्बाला की तरफ जाने वाले हैं, उन्हें शहर के बीच से जाने की जरूरत नहीं है। नलवी नहर के साथ लगता यह रोड कैल से पांवटा नेशनल हाईवे त्रिवेणी चौक जगाधरी तक जाता है।

इन गांवों की जमीन के लिए नोटिफिकेशन जारी
एनएचएआई की ओर से जमीन एक्वायर के लिए आपत्तियां मांगी गई हैं। इसमें गांव मुंडा खेड़ा, पंजेटो, सिंघपुरा, चाहड़ो, छजू नगला, काटवाला, खारवन, मामली, मेहलावाली और शाहपुर हैं। इसमें ज्यादातर जमीन प्राइवेट है। वहीं कुछ जगह पर सरकारी रोड है। जहां से उसे चौड़ा कर इसमें जोड़ा जाएगा।

शहर को होगा फायदा
रिंग रोड निकलने से बड़ा फायदा होगा कि अगर कोई अम्बाला की तरफ से पांवटा साहिब जाने के लिए आ रहा है तो उसे जगाधरी शहर में जाने में जाम में फंसने की जरूरत नहीं होगी। वहीं, अगर कोई पांवटा साहिब की तरफ से आ रहा है और उसे पंजाब या अम्बाला जाना है तो उसे भी जगाधरी शहर के अंदर जाने की जरूरत नहीं होगी। इसे देखते हुए यह रिंग रोड पांवटा साहिब हाईवे से जोड़ी जा रही है।

खबरें और भी हैं...