पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौसम की मार:तूफान में गिरे पेड़, 122 बिजली पोल उखड़े, कई फीडर रहे ब्रेेक डाउन

यमुनानगर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीण एरिया में ज्यादा बिजली पोल व तारों पर पेड़ गिरने से देर शाम तक बिजली आपूर्ति बहाल नहीं हो पाई

जिले में शनिवार देर रात आए तूफान से कई पेड़ उखड़ कर गिर गए। बिजली निगम के भी 122 से अधिक पोल जमीन पर आ गिरे। तूफान के कारण बिजली निगम के फीडर ब्रेक डाउन रहे। जिन्हें सुचारू करने के लिए बिजली निगम के कर्मी रविवार शाम तक लगे रहे। आधे से अधिक फीडर सुचारू कर दिए गए। ग्रामीण एरिया में नुकसान ज्यादा होने के कारण बिजली आपूर्ति बहाल नहीं हो पाई।

एसई बिजली निगम योगराज का कहना है कि बिजली कर्मी फीडर को सुचारू करने में लगे हैं। बिजली गुल होने से जनस्वास्थ्य विभाग के ट्यूबवेल नहीं चल पाए। लोगों को पेयजल के लिए परेशानी उठानी पड़ी। हैंडपंप से पानी भरकर लाए। बिजली आपूर्ति देर से बहाल होने के कारण गर्मी से लोग बेहाल रहे। कई सड़कों पर पेड़ गिरने से मार्ग बाधित रहे।

इन्हें ग्रामीणों की मदद से हटाया गया। वन विभाग के अधिकारी गिरे पेड़ों का आंकलन नहीं होने की बात कह रहे हैं। इसके लिए वन कर्मियों को निर्देश दिए गए हैं। इसके बाद ही नुकसान का पता लग सकेगा। बिजली निगम के एसडीओ सुखविंद्र सिंह का कहना है कि बिजली कर्मी लगे हैं। सभी फीडर बहाल करने का प्रयास किया जा रहा है। सुबह से ही कर्मी फील्ड में भेजे गए हैं।

स्टेट हाईवे पर पेड़ गिरने से मार्ग रहा बाधित | छछरौली। तूफान के साथ बारिश ने एक तरफ जहां सड़कें अवरुद्ध हो गई। वहीं, बरौली माजरा में स्टेट हाईवे पर दर्जनों पेड़ उखड़ गए। यहां रह रहे परिवारों को पेड़ गिरने के डर से रात भर जागना पड़ा क्योंकि यह भारी-भरकम पेड़ एक वर्ष पहले भी लोगों के मकानों पर गिर चुके हैं।

पीड़ित परिवारों ने अपने घरों के सामने सड़क किनारे खड़े भारी भरकम पुराने पेड़ों को कटवाने के लिए कई बार वन विभाग को सूचित किया, लेकिन समाधान नहीं हुआ। ग्रामीण सुरजा राम सैनी, गुरुदयाल सिंह सैनी, रमेश कुमार सैनी, गुलशन कश्यप, दिलजान, लाला राम बॉबी, रमेश कुमार, अमर सिंह, असगर, इरशाद, कर्म सिंह का कहना है कि खिजराबाद से लेदी रोड पर बरोली माजरा पुल के पास बसे दर्जनों परिवारों के लिए सड़क किनारे खड़े भारी-भरकम पेड़ मुसीबत बने हुए हैं।

रमेश कुमार सैनी, बॉबी, सुरजाराम का कहना है कि शनिवार रात आए तूफान की वजह से इन भारी-भरकम पेड़ों का उन्हें डर सताता रहा और उन्होंने सारी रात बाहर बैठकर गुजारी। 5 महीने शिकायत दी थी फिर भी पेड़ नहीं काट गए। रेंज अधिकारी छछरौली सुशील कुमार शर्मा का कहना है कि उन्हें शिकायत मिल गई है। बरौली माजरा में घरों के साथ-साथ सड़क किनारे खड़े पुराने भारी-भरकम पेड़ों को जल्दी ही हटवाया जाएगा।

खिजराबाद में पेड़ गिरने से घरों में आ गई दरारें

खिजराबाद, क्षेत्र में आए तूफान के कारण कई जगहों पर भारी नुकसान हुआ। भीषण तूफान व गरज के साथ हुई बूंदाबांदी में एनएच पांवटा व तिहमों गांव की लिंक रोड पर कई पुराने पेड़ उखड़ कर गिर पड़े। भारी भरकम पेड़ उखड़ कर साथ लगते घरों पर गिरने से मकानों में दरारें आ गई तथा बिजली के तार टूट गए। तूफान के कारण आम के बगीचों में भारी नुकसान हुआ है। खिजराबाद क्षेत्र में 1 महीने के अंतराल में दूसरी बार आए भीषण तूफान से कई जगहों पर भारी नुकसान हुआ।

गांव तिहमों की लिंक रोड पर खड़े कई दशकों पुराने सफेदे के पेड़ उखड़ कर साथ लगते घरों पर जा गिरे। भारी भरकम पेड़ गिरने के कारण मकानों में दरारें आ गई। सड़क के साथ लगी बिजली की लाइन क्षतिग्रस्त हो गई। तूफान के कारण बस स्टैंड प्रताप नगर के समीप एनएच पोंटा पर सफेदे के पुराने पेड़ टूटकर सड़क पर आ गिरे। नरेश कुमार ने बताया कि दशहरी, चौसा, लंगड़ा किस्म के आम अब लगभग तैयार हैं। लेकिन हवा के कारण आम की फसल झड़ गई है। जिससे आम की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है।

बारिश से मिली गर्मी से निजात, ब्रेक डाउन रहे फीडर

जठलाना, तेज हवा के साथ हल्की बारिश से जहां लोगों को कुछ हद तक गर्मी से राहत मिली, तो वहीं दूसरी ओर तेज हवा ने क्षेत्र में करीब 30 बिजली के पोल तोड़ दिए। कई जगह पेड़ उखड़े व पेड़ों की टहनियों टूटी। पूरी रात सभी 6 घरेलू व 12 कृषि फीडर ब्रेकडाउन रहे। ग्रामीण एरिया में अंधेरा छाया रहा। सुबह बिजली निगम के कर्मचारी फील्ड में उतरे और पूरा दिन बिजली व्यवस्था दुरुस्त करने में जुटे रहे। निगम के एसडीओ शमशेर सिंह ने बताया कि तेज हवा से निगम के करीब 30 बिजली के पोल टूटे हैं। निगम को लाखों का नुकसान हुआ है।

तूफान से शेड व बोर्ड उखड़े, बरसाती पानी दुकानों में घुसा

साढौरा, तूफान के कारण सड़कों किनारे लगे पेड़ों के अलावा दुकानों के आगे लगे टीन शेड व फ्लेक्स बोर्ड उखड़ गए। वहीं, जल निकासी की समस्या के कारण पीर बुद्धुशाह गुरुद्वारा के पास कई दुकानों में बरसात का पानी घुसने से सामान खराब हो गया। सड़कों के किनारे लगे पेड़ उखड़ने से आवाजाही ठप्प रही। बाद में ग्रामीणों व वन विभाग ने सड़क पर गिरे पेड़ों का हटाकर आवाजाही बहाल की। पीर बुद्धुशाह गुरुदारा के पास जल निकासी न हाेने से दुकानों में पानी घुस गया।

​​​​​​​सतनाम सिंह ने बताया कि इस जगह पर जल निकासी के लिए सही मोटाई के पाइप न बिछाए जाने के कारण पानी की निकासी नहीं हो पाती है। तेज बरसात के पानी की निकासी न होने से ठाकर दास, सचिन, ताज, लवली व गोपाल की दुकानों में पानी भर गया। दुकानों में रखा सामान खराब हो गया। बिजली कर्मियों ने दाेपहर बाद बिजली आपूर्ति बहाल की।

खबरें और भी हैं...