प्रेक्षाध्यान प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन:जैन ने कहा तनाव भरे युग में प्रेक्षाध्यान की बहुत अधिक प्रासंगिकता

भिवानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तेरापंथ प्रोफेशनल फार्म द्वारा प्रेक्षा विहार में प्रेक्षाध्यान प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया। वरिष्ठ प्रेक्षा प्रशिक्षक लाजपत राय जैन ने प्रेक्षाध्यान के दर्शन व प्रयोगों का विवेचन किया। इस पद्धति को विभिन्न शारीरिक, मानसिक व भावनात्मक बीमारियों के निवारण में कारगर बताया। उन्होंने कहा कि आचार्य महाप्रज्ञ ने अनेक ध्यान पद्धतियों के गहन अध्ययन व लम्बी साधना के बाद प्रेक्षाध्यान पद्धति का अविष्कार किया है जो आज के तनाव भरे अस्त-व्यस्त समय में सभी के लिए बहुत प्रासंगिक है।

यह बहुत ही सरल ध्यान पद्धति है तथा इसके छोटे-छोटे प्रयोग निरन्तर करने से व्यक्ति स्वस्थ व जागरूक बना रहता है। लाजपत राय जैन ने सरल व सहज भाषा में प्रेक्षाध्यान को समझाया व छोटी-छोटी यौगिक क्रियाएं व ध्वनि प्रयोग करवाए। रेनू नाहटा, मंजू जैन, सीमा आदि ने प्रेक्षागीत के संगान से कार्यक्रम प्रारम्भ किया। फार्म की अध्यक्ष सीए पारूल जैन ने संस्था की गतिविधियों पर प्रकाश डाला व आगन्तुकों का परिचय व स्वागत किया। आभार ज्ञापन एडवोकेट सुरेन्द्र जैन व मंच संचालन संस्कृति जैन ने किया। कार्यक्रम में प्रेक्षावाहिनी के संयोजक अशोक जैन, आयकर अधिकारी अनिल सिंगला, रमेश बंसल, माणिकचंद नाहटा आिद थे।

खबरें और भी हैं...