रक्तदान:41 कैडेट्स ने किया रक्तदान, प्राचार्य डॉ. यशवीर सिंह ने कहा कि रक्त का कोई विकल्प नहीं

चरखी दादरी5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक व्यक्ति के द्वारा दान किया हुआ रक्त ही दूसरे व्यक्ति को प्रदान किया जाता है

जनता महाविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना इकाइयों व यूथ रेडक्रॉस के तत्वावधान में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। राष्ट्रीय सेवा योजना एवं यूथ रेडक्रॉस काउंसलर डॉ. रोशन लाल ने बताया कि जिला रेडक्रॉस के माध्यम से सिविल अस्पताल भिवानी की टीम रक्त एकत्रित करने के लिए महाविद्यालय में पहुंची। शिविर में 41 स्वयंसेवकों ने रक्तदान किया। शिविर का उद्घाटन श्री बाला नाथ योगाश्रम आदमपुर दाढ़ी के संचालक आचार्य श्री देवी सिंह तथा प्राचार्य डॉ. यशवीर सिंह ने रक्त दाताओं को बैज लगाकर किया।

इस अवसर पर रक्त दाताओं को प्रेरित करते हुए आचार्य देवी सिंह ने कहा कि प्रत्येक स्वयंसेवक को तीन महीने बाद रक्तदान करना चाहिए। रक्तदान करने से शरीर में किसी प्रकार की कोई कमजोरी नहीं आती। प्राचार्य डॉ. यशवीर सिंह ने कहा कि रक्त का कोई विकल्प नहीं है। एक व्यक्ति के द्वारा दान किया हुआ रक्त ही दूसरे व्यक्ति को प्रदान किया जाता है। राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी प्रोफेसर सुरेंद्र सिंह, प्रोफेसर गरिमा श्योराण, छात्रा इकाई की यूथ रेड क्रॉस काउंसलर प्रोफेसर हेमलता बंसल के मार्गदर्शन में शिविर संपन्न हुआ। शिविर के सफल संचालन में प्रोफेसर जयवीर सिंह, डॉ. अरुण कुमार, डॉ. सुशीला सैनी, डॉ. जितेंद्र, प्रोफ़ेसर तरसेम, प्रोफ़ेसर परवीन, डाॅ. पूनम, डॉ. हेमलता शर्मा, युद्धिष्टर, अनीता रानी, सतीश कुमार, नरेश कुमार तथा स्वयं सेवक अर्चना, लक्ष्मी गर्ग, सविता, सुनील कुमार, अंकुर कुमार, मनीष कुमार, यादवेंद्र, मोहित कुमार, दीपक कुमार, पुनीत कुमार, अंशुल, सुमित, साजिद, दीपांक आदि की विशेष भागीदारी रही।

खबरें और भी हैं...