बड़ी लापरवाही::बीपीटीपी एलीट पार्क प्रीमियम सोसाइटी में फैला डायरिया, 200 से अधिक लोग बीमार, आधा दर्जन से अधिक अस्पताल में भर्ती

फरीदाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रेजीडेंट्स का आरोप पानी उपलब्ध कराने वाली कंपनी ने वाटर सप्लाई की लाइन में जोड़ी एसटीपी की लाइन। - Dainik Bhaskar
रेजीडेंट्स का आरोप पानी उपलब्ध कराने वाली कंपनी ने वाटर सप्लाई की लाइन में जोड़ी एसटीपी की लाइन।

बिल्डर के कर्मचारियों की लापरवाही से ग्रेटर फरीदाबाद के सेक्टर 85 स्थित बीपीटीपी एलीट पार्क प्रीमियम सोसाइटी में रहने वाले परिवारों की जान संकट में पड़ गयी। पानी की सप्लाई में एसटीपी की लाइन जोड़ने से गंदा पानी लोगों के फ्लैटों में पहुंचने लगा। उसे पीने से सोसाइटी में डायरिया फैल गया। करीब दो सौ से अधिक लोग बीमार हो गए। अाधा दर्जन से अधिक लोग अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं। बीमार होने वालों में अधिकांश बच्चे हैं। शनिवार को डॉक्टरों की टीम बुलाकर रेजीडेंट्स का मेडिकल चेकअप कराया गया और उन्हें दवाईयां दी गई। रेजीडेंटस का अारोप है कि बिल्डर के कर्मचारियों की लापरवाही से ऐसा हुआ है। बिल्डर आैर उनके कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई हाेनी चाहिए।

आरडब्ल्यूए के प्रधान अवनींद्र तिवारी, रेजीडेंट राजेंद्र गुप्ता, जान्हवीं, पल्लवी, मानसिंह आदि ने बताया कि बीपीटीपी एलीट पार्क प्रीमियम सोसाइटी में करीब 400 परिवार रहता है। यहां मेंटीनेंस का काम बिल्डर की दूसरी कंपनी बीपीएमएस करती है। उनका आरोप है कि बिल्डर के कर्मचारियों ने 18 मई की रात एसटीपी की पाइपलाइन को पानी टैंक की सप्लाई में जोड़ दिया। जिससे दूषित पानी लोगों के फ्लैट में पहुंच गया। उसे पीने से लोग बीमार होने लगे। उनका आरोप है कि बिल्डर ने यहां अप्रशिक्षित कर्मचारियों को रखकर रेजीडेंट्स की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहा है। बिल्डर का एसटीपी भी अभी अधूरा है। इस घटना को मानवीय भूल बताकर बिल्डर बच नहीं सकता।

सोसाइटी में बुलाई गई डॉक्टरों की टीम से जांच के इंतजार में महिलाएं
सोसाइटी में बुलाई गई डॉक्टरों की टीम से जांच के इंतजार में महिलाएं

बुलानी पड़ी स्वास्थ्य विभाग की टीम

आरडब्ल्यूए के प्रधान ने बताया कि लगातार बीमार हो रहे रेजीडेंटस की मेडिकल जांच के लिए शनिवार को खेड़ी स्वास्थ्य केंद्र से डॉक्टरों व पैरा मेडिकल की टीम बुलानी पड़ी। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सभी की जांच की। जांच में करीब दो सौ लोग डायरिया की चपेट में आए हैं। इनमें अधिकांश बच्चे हैं। इसी के साथ पानी के सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिए गए हैं। उधर बिल्डर कंपनी के वाइसप्रेसीडेंट रोहित मोहन का कहना है मेंटीनेंस थर्ड पार्टी करती है। मानवीय भूल हुई है। संबंधित वेंडर को हटा दिया गया है। कंपनी रेजीडेंटस के साथ है। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही अथवा साजिश नहीं की गई है।