• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Faridabad
  • Four Local Trains Of Faridabad Palwal Section Were Cancelled, Thousands Of Passengers Upset, Passengers Forced To Return Home From Stations

मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त, रेल यातायात प्रभावित::फरीदाबाद-पलवल सेक्शन की चार लोकल ट्रेनें कर दी गई कैंसिल, हजारों यात्री हुए परेशान,स्टेशनों से घर लौटने को हुए मजबूर यात्री

फरीदाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ओखला और नई दिल्ली तक जाने वाले नौकरीपेशा वाले लोग समय पर नहीं पहुंच पाए दफ्तर, बस स्टैंड पर घंटों सवारी के लिए भटकते रहे लोग, बड़ी संख्या में लोग। - Dainik Bhaskar
ओखला और नई दिल्ली तक जाने वाले नौकरीपेशा वाले लोग समय पर नहीं पहुंच पाए दफ्तर, बस स्टैंड पर घंटों सवारी के लिए भटकते रहे लोग, बड़ी संख्या में लोग।

निजामुद्दीन-तिलकब्रिज के बीच में बुधवार की देररात एक मालगाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने से पलवल-फरीदाबाद सेक्शन पर ट्रेनों का आवागमन बुरी तरह से प्रभावित हो गया। रेलवे ने चार लोकल ट्रेनों को कैंिसल कर दिया। इससे हजारों यात्रियों की परेशानी बढ़ गयी।

पलवल से लेकर फरीदाबाद तक दैनिक यात्री स्टेशन आकर वापस लौटने को मजबूर हुए। सबसे अधिक परेशानी नौकरीपेशा वालों को हुई। साधन के अभाव में लोग बस अड्‌डा पहुंचे। वहां भी घंटों उन्हें इंतजार करना पड़ा। थक हारकर बड़ी संख्या में लोग घर लौट गए। यही हाल दिल्ली नौकरी करने वालों के साथ हुआ। शाम के समय भी यही स्थिति बनी रही। हालांकि सुबह करीब 10 बजे रेल परिचालन शुरू हो गया था लेकिन लोकल ट्रेनें कैंसिल ही रही। इसके चलते शाम के वक्त लौटते समय भी बल्लभगढ़ बस अड्‌डे पर यात्रियों की भीड़ जमा रही।

इन लोकल ट्रेनों काे िकया गया कैंसिल

रेलवे अधिकारियों के मुताबिक पलवल-फरीदाबाद सेक्शन की चार लोकल ट्रेनें कैंसिल की गई थी उनमें सुबह छह बजे पलवल से चलकर गाजियाबाद जाने वाली 04407 शटल, 7.29 बजे चलने वाली 04419 मथुरा-गाजियाबाद शटल, सुबह 8.05 बजे चलने वाली पलवल-गाजियाबाद शटल अौर सुबह 10.55 बजे चलने वाली पलवल-गाजियाबाद शटल शामिल थी।

पलवल स्टेशन के बाहर जमा दैनिक यात्रियों की भीड़
पलवल स्टेशन के बाहर जमा दैनिक यात्रियों की भीड़

केवल तीन ट्रेनें चली, इनमें रही मारामारी

रेलवे ने सुबह 6.48 बजे गाजियाबाद आने वाली पहली मथुरा शटल, गीता जयंती एक्सप्रेस और आगरा इंटरसिटी एक्सप्रेस का ही परिचालन करा पाया। इससे इन ट्रेनों में यात्रियों की भारी भीड़ रही। आगरा इंटरसिटी और मथुरा शटल में लोग पायदान पर खड़े होकर जान जोखिम में डालकर यात्रा करने को मजबूर हुए। शाम के समय भी यही हाल रहा। जो यात्री किसी तरह बल्लभगढ़ और फरीदाबाद अन्य साधन से पहुंचे थे उन्हें शाम को लौटने में भी परेशानी हुई। क्योंकि देरशाम तक कैंसिल की गई कोई ट्रेन बहाल नहीं हो पायी थी।