• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Faridabad
  • Keynote Speaker At JC Bose University Said, Do As Much Research As Possible In Journalism, Because Discovery Is The Only Means Of Development

महर्षि नारद जयंती पर संगोष्ठी का आयोजन::जेसी बोस यूनिवर्सिटी में मुख्य वक्ता बोले, पत्रकारिता में जितना संभव हो उतना अनुसंधान करें, क्योंकि खोज विकास का एकमात्र साधन है

फरीदाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जेसी बोस विश्वविद्यालय में आयोजित संगोष्ठी में अपने विचार रखते वरिष्ठ पत्रकार श्याम किशोर सहाय। - Dainik Bhaskar
जेसी बोस विश्वविद्यालय में आयोजित संगोष्ठी में अपने विचार रखते वरिष्ठ पत्रकार श्याम किशोर सहाय।

विश्व संवाद केंद्र एवं जेसी बोस विश्वविद्यालय, वाईएमसीए के संचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी विभाग के संयुक्त सौजन्य से सृष्टि के प्रथम पत्रकार महर्षि नारद मुनि की जयंती पर संगोष्टी का आयोजन किया गया। राष्ट्र हित केंद्रित पत्रकारिता विषय पर आयोजित इस कार्यक्रम में ख्याति प्राप्त पत्रकार, सामाजिक, धार्मिक संगठन एवं प्रबुद्ध नागरिक मौजूद रहे। विवेकानन्द सभागार में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि कुलसचिव डॉ एसके गर्ग, मुख्य वक्ता संसद टीवी के संपादक श्याम किशोर ̈सहाय, विशिष्ट अतिथि विश्व संवाद केंद्र हरियाणा के महासचिव राजेश कुमार,संचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी विभाग के चेयरमैन डॉ पवन सिंह, आरएसएस के विभाग कार्यवाह डॉ अरविंद सूद, प्रचार विभाग प्रमुख माधव ने दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ किया। मुख्य वक्ता रहे संसद टीवी के संपादक श्याम किशोर सहाय ने 'राष्ट्र' शब्द के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा 'राष्ट्र' शब्द भारतीय सभ्यता की एक अवधारणा है। यहां तक कि वेदों में भी इस विशिष्ट शब्द का उपयोग अनेक बार किया गया है। अपने शब्दों को समाप्त करते हुए, उन्होंने दर्शकों से आह्वान किया कि वे जितना संभव हो उतना अनुसंधान करें, क्योंकि खोज विकास का एकमात्र तरीका है। संचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी विभाग अध्यक्ष डॉ पवन सिंह मलिक ने पत्रकार के गुणों को साझा किया कि वर्तमान पत्रकार को बहु-प्रतिभाशाली होने की आवश्यकता है। उन्हें नए मीडिया के बारे में पता होना चाहिए। विश्व संवाद केंद्र हरियाणा के महासचिव राजेश कुमार ने राष्ट्र निर्माण के लिए अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की और उभरते पत्रकारों को अपने काम और अपने राष्ट्र के प्रति ईमानदार रहने के लिए कहा।