घातक हुई शहर की हवा:अफसरों के दावे हवा में, फरीदाबाद फिर बना देश का सबसे प्रदूषित शहर, एक्यूआई 314 तक पहुंचा

फरीदाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अभी तक प्रदूषण कम करने के लिए नहीं किए गए कोई उपाय, निगम कर्मचारियों की हड़ताल से हालात और हुए खराब। - Dainik Bhaskar
अभी तक प्रदूषण कम करने के लिए नहीं किए गए कोई उपाय, निगम कर्मचारियों की हड़ताल से हालात और हुए खराब।

दिवाली से पहले शहर की हवा जहरीली होती जा रही है। नगर निगम, हरियाणा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व जिला प्रशासन के सभी दावे हवा में उड़ रहे हैं। शुक्रवार को एक बार फिर फरीदाबाद देश का सबसे प्रदूषित शहर बन गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड 167 शहरों की एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) सूची में पहले स्थान पर चिन्हित किया गया। यहां का पीएम 2.5 का स्तर 312 तक पहुंच गया।

हैरानी की बात ये है कि शहर का प्रदूषण स्तर तेजी से बढ़ रहा है लेकिन प्रशासन के पास इससे निपटने का कोई उचित उपाय नजर नहीं आ रहा है। यानि प्रदूषण को रोकने केलिए कोई उपाय नहीं किए जा सके हैं। नगर निगम में चल रही कर्मचारियों की हड़ताल से हालात और भी खराब हो गए हैं।

एनआईटी इलाका सबसे खतरनाक

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों पर नजर डालें तो एनआईटी इलाका प्रदूषण के मामले में टॉप पर है। यहां का एक्यूआई स्तर 395 तक पहुंच गया। जबकि सेक्टर 16ए के आसपास का स्तर 252 और सेक्टर 11 के अासपास का स्तर 290 तक दर्ज किया गया। गुरुवार को भी एनआईटी का प्रदूषण स्तर सबसे खराब 340 रहा।

दावे लंबे पर धरातल पर कुछ भी नहीं

कहने को तो नगर निगम एक महीने पहले से ही शहर के सभी 40 वार्डों के लिए 40 टीमें गठित की थी। पांच छोटे एंटी स्मॉग गन लगाए गए हैं। दो बड़ी एंटी स्मॉग गन की गाड़ियां भी उपलब्ध है लेकिन धरातल पर कोई काम नहीं हो रहा है। रोड स्विपिंग मशीन से किसी भी रोड की काेई सफाई नहीं हो रही। शहर की सभी सड़कों पर धूल की भरमार है। टूटी सड़कों पर पेंच वर्क तक नहीं हो रहा है।

हड़ताल ने बनाई हालत गंभीर

नगर निगम कर्मचारियों की हड़ताल से हालत गंभीर बन गई है। क्योंकि इस हड़ताल में निगम में कार्यरत ड्राइवर व सफाई कर्मी भी शामिल हैं। ऐसे में न तो टैंकरों से पानी छिड़काव के लिए कोई ड्राइवर उपलब्ध है और न ही झाडू लगाने के लिए सफाईकर्मी। नगर निगम और जिला प्रशासन के पास इसका कोई विकल्प भी नहीं है।

देश के टॉप फाइव प्रदूषित शहर

शहर एक्यूआई

फरीदाबाद 312

गाजियाबाद 300

कटिहार 288

दरभंगा 283

सिवान 279