पिछड़ा वर्ग आयोग के चेयरमैन ने की जन सुनवाई::समाज के प्रतिनिधियों ने आबादी के हिसाब से पंचायती राज संस्थाओं में मांगी हिस्सेदारी

फरीदाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आयोग के सदस्य बोले, प्रदेश भर में ने जन सुनवाई करने के बाद सरकार को सौंपेंगे रिपोर्ट, मांग पर प्रमुखता से किया जाएगा विचार। - Dainik Bhaskar
आयोग के सदस्य बोले, प्रदेश भर में ने जन सुनवाई करने के बाद सरकार को सौंपेंगे रिपोर्ट, मांग पर प्रमुखता से किया जाएगा विचार।

पंचायती राज संस्थाओं में पिछड़े वर्ग को आरक्षण को लेकर शुक्रवार को सेक्टर 12 स्थित हुड्‌डा कंवेंशन सेंटर में हरियाणा पिछड़ा वर्ग आयोग के चेयरमैन रिटायर्ड जस्टिस दर्शन सिंह ने जन सुनवाई की। इस जन सुनवाई में पिछड़ी जातियाें से ताल्लुक रखने वाले सैकड़ों प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। लोगों ने आयोग के सामने समाज की स्थिति और परिस्थितियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी और ज्ञापन भी दिए। प्रतिनिधियों ने आयेाग से मांग करते हुए कहा कि प्रदेश में पिछड़ा वर्ग की जितनी आबादी है उस हिसाब से पंचायतीराज संस्थाओं में उनकी भागीदारी होनी चाहिए। आयोग इसे गंभीरता से ले और सरकार पर इसे लागू करने का दबाव बनाए। इस जनसुनवाई में फरीदाबाद, पलवल, नूंह के प्रतिनिधियों के अलावा तीनों जिलों के जिला प्रशासन के अधिकारी और नूंह के विधायक आफताब आलम भी मौजूद थे।

आयोग के सामने समाज के प्रतिनिधियों ने रखा पक्ष

सागरपुर बल्लभगढ़ निवासी डॉ. दया किशन गड़रिया, सेक्टर 87 इंद्रिरा कांप्लेक्स से रामफल जांगड़ा, तिगांव से सुरेश वर्मा, पलवल के असावटी से आरसी गोला एडवोकेट, राजीव कॉलोनी बल्लभगढ़ से हरिराम पांचाल, नूंह के बीसरू गांव से फकरूद्ीन, जवाहर कॉलोनी एनआईटी से मंगलसेन प्रजापति, भगत सिंह कॉलोनी बल्लभगढ़ से दुर्गपाल,पलवल के मानपुर से चरण सिंह बघेल, मोहना से जोगिंदर सिंह आदि ने आयाेग को बताया कि प्रदेश में उनके समाज की आबादी 70 फीसदी से अधिक है। लेकिन सरकारों की उदासीनता के कारण पंचायतीराज संस्थाओं में उनका प्रतिनिधित्व न के बराबर है। आजादी के 75 साल बाद भी हमारे समाज को वह अधिकारी नहीं मिल पाया जिसके हम हकदार हैं। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि सरकार पिछड़ा वर्ग को पंचायतीराज संस्थाओं के अलावा नगर निकायों व विधानसभा चुनावों में भी उनकी सीटें आरक्षित करे। उन्होंने जनसंख्या के आधार पर जनगणना करा हिस्सेदारी सुनिश्चित करने की मांग की।

हरियाणा पिछड़ा वर्ग आयोग को ज्ञापन सौंपते समाज के लोग
हरियाणा पिछड़ा वर्ग आयोग को ज्ञापन सौंपते समाज के लोग

स्पेशल अभियान चलाकर बैकलॉग भरे जाएं

नूंह विधायक अाफताब आलम ने आयोग से मांग करते हुए कहा कि पिछड़ा समाज की जातीय जनगणना कराई जानी चाहिए। साथ ही सरकार स्पेशल ड्राइव चलाकर पिछड़ों के लिए विभिन्न विभागों मंे खाली रिक्त पदों पर भर्ती की जानी चाहिए। साथ ही उन्होंने पिछड़ा वर्ग का क्रीमीलेयर का मापदंड बढ़ाकर 10 लाख रुपए तक करनी चाहिए।

चेयरमैन बोले, लिए जांएगे उचित निर्णय

आयोग के चैयरमैन जस्टिस दर्शन सिंह ने कहा कि प्रदेश भर में जन सुनवाई करके रिपोर्ट तैयार कर सरकार को सौंपी जाएगी। पिछड़ा वर्ग को आरक्षण दिए जाने के मामले में आयेाग उचित निर्णय लेगा। इस मौके पर आयोग के सदस्य सचिव मुकुल कुमार आईएएस, सदस्य श्यामलाल जांगड़ा, डीसी पलवल कृष्ण कुमार, एडीसी नूंह सुबिता ढाका समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...