बड़ी लापरवाही::शहरी स्थानीय निकाय का पोर्टल एक माह से बंद, ऑनलाइन जमा नहीं हो पा रहे प्रॉपर्टी, सीवर-पानी टैक्स

फरीदाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पोर्टल कब ठीक होगा, निगम अफसरों को भी नहीं पता, मुख्यालय से गड़बड़ी होने के कारण बढ़ी परेशानी। - Dainik Bhaskar
पोर्टल कब ठीक होगा, निगम अफसरों को भी नहीं पता, मुख्यालय से गड़बड़ी होने के कारण बढ़ी परेशानी।

हरियाणा शहरी स्थानीय निकाय का पोर्टल बंद होने से शहरवासियों की परेशानी बढ़ गयी है। लोग न तो प्रॉपर्टी टैक्स जमा कर पा रहे हैं और न ही सीवर पानी का शुल्क। बड़ी संख्या में लोग नगर निगम आकर वापस लौटने को मजबूर हैं। यह समस्या करीब एक महीने से बनी पड़ी है।

हैरान करने वाली बात यह है कि निगम अधिकारियों को इसकी जानकारी तक नहीं है। लोगों का आरोप है कि वह नगर निगम में अपने बिल जमा कराने के लिए आ रहे हैं तो यहां पर कर्मचारी कई चक्कर लगवा रहे हैं। निगम सूत्रों की मानें तो एक महीने से पोर्टल बंद होने के कारण विभाग को करीब 15 से 20 लाख रुपएतक का नुकसान हो चुका है। अर्थात बिल जमा नहीं हो पाए हैं। निगम अधिकारी चंडीगढ़ मुख्यालय से समस्या होने की बात कहकर पल्ला झाड़ने में लगे हैं।

मैन्यूवल काम बंद होने से और बढ़ी परेशानी

बता दें कि सरकार ने सभी स्थानीय निकायों में प्रॉपर्टी, सीवर व पानी शुल्क जमा कराने की व्यवस्था ऑनलाइन कर दी है। हरियाणा शहरी स्थानीय निकाय विभाग के पोर्टल पर ही लोग प्रॉपर्टी, सीवर व पानी शुल्क जमा करते हैं। घर बैठे भी यह सुविधा उपलब्ध है। ऐसे में नगर निगम ने मैन्यूवल तरीके से प्रॉपर्टी टैक्स जमा करना बंद कर दिया है। लेकिन एक महीने से पोर्टल की साइट बंद होने से शहरवासियों की परेशानी बढ़ गयी है।

नगर निगम फरीदाबाद
नगर निगम फरीदाबाद

5 लाख से अधिक हैं प्रॉपर्टी मालिक

निगम सूत्रों की मानें तो वर्तमान मेें निगम सीमाक्षेत्र में पांच लाख से अधिक प्रॉपर्टी मालिक हैं। इनमें अावासीय, व्यवसायिक और औद्योगिक सेक्टरों के हैं। एक अप्रैल से नया फाइनेंसियल ईयर शुरू हो चुका है। तभी से पोर्टल भी बंद पड़ा है। ऐसे में यह पांच लाख प्राॅपर्टी मालिक नए फाइनेशियल ईयर का टैक्स जमा नहीं कर पा रहे हैं। निगम सूत्रों की मानें तो हरियाणा अर्बन लोकल बॉडी की वेबसाइट पर ऑनलाइन सिस्टम काम नहीं कर रहा है।

निगम मुख्यालय से भी राहत नहीं

ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम बंद होने से शहरवासी नगर निगम मुख्यालय के सीएससी सेंटर पहुंच रहे हैं। यहां भी उन्हें निराशा हाथ लग रही है। क्योंकि सिस्टम काम न करने से यहां के कर्मचारी भी अपनी सीट पर नजर नहीं आते। िनगम मुख्यालय मंे रोजाना सैकड़ों लोग इस भीषण गर्मी में यहां आकर वापस घर लौटने को मजबूर हैं।

लोगों पर पड़ रहा पेनाल्टी का भार

नगर निगम इन दिनों पानी और सीवर के बिल लोगों को भेज रहा है, जिस पर क्यूआर कोड है। क्यूआर कोड को स्कैन करके ऑनलाइन पेमेंट की जा सकती है।अब जब लोग क्यूआर कोड स्कैन कर रहे हैं तो पेमेंट नहीं हो पा रही है। एनआईटी पांच निवासी रविंद्र कुमार, डबुआ कॉलोनी निवासी दीपक, सेक्टर 55 निवासी गुरमीत सिंह आदि का कहना है निगम नोटिस भेजकर 15 दिन का समय दे रहा है। एक माह से पेमेंट हो नहीं रही। ऐसे में अब उन पर पेनाल्टी का भार पड़ रहा है। निगम को चाहिए कि वह अपने सिस्टम को तुरंत दुरूस्त कराए ताकि लोग आसानी से टैक्स जमा कर सकें। उधर एक्सईएन आईटी नितिन कादयान का कहना है कि प्रॉपर्टी टैक्स जमा कराने के लिए ऑनलाइन पोर्टल चंडीगढ़ से ही खराब है। वहां पर कुछ काम चल रहा है। उम्मीद है कि जल्द पोर्टल ठीक हो जाएगा