सावित्री जिंदल के नाम पर 97 लाख हड़पे:फतेहाबाद के 10 युवाओं को नौकरी दिलाने का झांसा; पति-पत्नी-जेठ के खिलाफ केस

फतेहाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

हरियाणा के फतेहबाद में सरकारी नौकरी लगवाने के नाम पर गांव धांगड़, हिसार व भिरडना के 10 युवाओं से 97 लाख रुपए हड़प लिए गए। युवा पिछले एक साल से धक्के खा रहे हैं, न तो उनको सरकारी नौकरी मिली और न ही रुपए वापस किए गए। कुछ को नौकरी के फर्जी कागजात जरूर थमा दिए गए। साथ ही उनकी बात एक महिला से कराई गई, जिसने खुद को हिसार की पूर्व MLA और जिंदल ग्रुप की मालकिन सावित्री जिंदल बताया। पुलिस ने हिसार के प्रमोद, उसकी पत्नी भावना व एक अन्य के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है।

महिला ने लिया झांसे में

फतेहाबाद थाना सदर पुलिस को दी शिाकयत में गांव धांगड़ निवासी सुरेंद्र कुमार उर्फ सुंदर सिंह ने बताया कि वर्ष 2020 में उसकी पहचान हिसार सेक्टर-13 निवासी भावना के साथ हुई। उसने बताया था कि वह सरकारी नौकरी लगवाने का काम भी करती है। उनके राजनेताओं से लेकर अधिकारियों तक संपर्क हैं। अगर रुपए का इंतजाम हो सकता है तो वह नौकरी लगवा सकती है। सुरेंद्र ने बताया कि उसकी पत्नी पढ़ी लिखी है, ऐसे में उसे नौकरी लगवाने को बोला। वहीं सुरेंद्र ने अपने जानकारों को भी बता दिया कि इस तरह अगर रुपए देंगे तो उनको सरकारी नौकरी मिल सकती है।

10 युवकों ने लेकर दिए 97 लाख

सुरेंद्र का कहना है कि उसने भावना और उसके पति प्रमोद को 10 युवकों को अलग अलग विभागों में नौकरी लगवाने के लिए 97 लाख रुपए दिए। आरोप है कि युवकों को सरकारी नौकरी के फर्जी जॉइनिंग लेटर भी दिए, लेकिन कुछ नहीं हो सका। उन्होंने जब इनसे रुपए वापस मांगे तो देने से मना कर दिया।

महिला ने अपने को सावित्री जिंदल बताया

शिकायतकर्ता सुरेंद्र ने बताया कि इस दौरान आरोपियों ने उसकी बात एक महिला से करवाई गई। जिसने अपने आप को हिसार की पूर्व एमएलए सावित्री जिंदल बताया था। इसके अलावा उसके पीए का नाम लेकर एक व्यक्ति ने बात भी करवाई ताकि विश्वास हो जाए। इसी विश्वास के नाम पर उन्होंने 97 लाख दिए थे। पुलिस ने फतेहाबाद के थाना सदर में भावना उसके पति प्रमोद और जेठ प्रवीण के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...