पिछड़ा वर्ग की मांगों पर सरकार को कोसा:फतेहाबाद में पूर्व विधायक घोड़ेला बोले- हमारे हितों की अनदेखी; 2024 में BJP को सबक सिखाएंगे

फतेहाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सम्मेलन में मंच पर बैठे पूर्व विधायक और समाज के अन्य नेता। - Dainik Bhaskar
सम्मेलन में मंच पर बैठे पूर्व विधायक और समाज के अन्य नेता।

हरियाणा में फतेहाबाद की अनाजमंडी में पिछड़ा वर्ग के सम्मेलन में वक्ताओं ने सरकार को जमकर कोसा। बरवाला के पूर्व कांग्रेसी विधायक रामनिवास घोड़ेला ने कहा कि पिछड़े वर्ग की सुनवाई नहीं हो रही और इस वर्ग के लोग अपनी अनदेखी के चलते सरकार से नाराज हैं। इस मौके पर पिछड़ा वर्ग का अगला सम्मेलन सोनीपत में किए जाने की जानकारी भी दी गई।

उन्होंने बीजेपी सरकार पर पिछड़ा वर्ग के हितों की अनदेखी का आरोप लगाया। घोड़ेला ने कहा कि अगर सरकार उनकी मांगों को नहीं मानती है तो वर्ष 2024 में होने वाले चुनाव में लोग BJP को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाने का काम करेंगे।

अनाजमंडी में आयोजित सम्मेलन में उपस्थित महिलाएं और पुरुष।
अनाजमंडी में आयोजित सम्मेलन में उपस्थित महिलाएं और पुरुष।

गौरतलब है कि रामनिवास घोड़ेला को 2019 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने टिकट नहीं दी थी। उनके कांग्रेस के अधिकृत प्रत्याशी के खिलाफ आजाद चुनाव लड़ने पर पार्टी ने उन्हें छह साल के लिए पार्टी से निकाल दिया था। रविवार के सम्मेलन में लोगों को उम्मीद थी कि पूर्व कांग्रेसी विधायक घोड़ेला कांग्रेस में शामिल होने का ऐलान कर सकते हैं, लेकिन उन्होंने कहा कि अगर भूपेंद्र सिंह हुड्डा उन्हें बुलाते हैं तो वह मिलने जाएंगे।

हुड्‌डा के बुलावे पर कांग्रेस में जाएंगे

रामनिवास घोड़ेला ने कहा कि आज हजारों की संख्या में लोग इस सम्मेलन में जुड़े हैं। पिछड़ा वर्ग का अगला सम्मेलन सोनीपत में होगा। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर जो आरोप लगाए गए हैं वो गलत हैं। वह सरकार की इन धमकियों से नहीं डरने वाले हैं। उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस में तभी शामिल होंगे, जब भूपेंद्र सिंह हुड्डा उन्हें बुलाएंगे। हुड्‌डा के एक बुलावे पर वे शामिल हो जाएंगे।

सम्मेलन में उठाई ये मांगें

सम्मेलन में पिछड़ा वर्ग के लिए मदद छह लाख से आठ लाख रुपए करने, जातीय जनगणना कराने, पिछड़ा वर्ग के बच्चों को छात्रवृति देने, पंचायत चुनाव में 8 की बजाय 27 प्रतिशत आरक्षण देने सहित विभिन्न मुद्दों को उठाया गया। कहा गया कि भाजपा सरकार में पिछड़ा वर्ग के हितों की कोई रक्षा नहीं हो रही। भाजपा सरकार कोरोना काल में लिया गया लोन माफ करे।