• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Fatehabad
  • Students Studying By Getting Photocopies Of Old Books, Villagers Said For 2 Years Neither Books Have Come Nor Teachers Are Being Completed, Will Protest

सम्मानित हुए स्कूलों में भी नहीं शिक्षक:पुरानी किताबों की फोटो कॉपी करवा पढ़ रहे विद्यार्थी, ग्रामीण बोले- 2 साल से न पुस्तकें आईं न पूरे हो रहे टीचर, करेंगे आंदोलन

फतेहाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 4 गांवों के ग्रामीणों ने सौंपा मांग पत्र, डीसी ने किताबों पर 15 दिन का आश्वासन दे शिक्षकों पर साधी चुप्पी

एक तरफ सरकार जहां सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों का मुकाबला करने योग्य बनाने के लिए स्कूलों को मॉडल संस्कृति का दर्जा दे रही है, वहीं दूसरी तरफ जिले के प्राइमरी स्कूलों में पिछले दो साल से विद्यार्थियों की किताबें ही नहीं आ रही हैं। जिसके चलते बच्चों को पुरानी किताबों व उनकी फोटो कॉपी के सहारे पढ़ाई करनी पड़ रही है।

इसी को लेकर मंगलवार को जिले के गांव भूथनकलां, तामसपुरा, भिरडाना और रतिया के स्कूलों के एसएमसी मेंबरों व ग्रामीणों ने डीसी को मांग पत्र सौंपा और कहा कि यदि सरकार ने जल्द स्कूलों में पुस्तकें नहीं भेजी और शिक्षकों की कमी तुरंत पूरी नहीं की तो वे डीसी कार्यालय कूच कर आंदोलन करेंगे। ग्रामीणों की मांग पर डीसी ने 15 दिन में स्कूलों में पुस्तकें भिजवाने का आश्वासन दिया लेकिन शिक्षकों की कमी के सवाल पर डीसी ने ग्रामीणों को कोई जवाब नहीं दिया और चुप्पी साध ली।

खबरें और भी हैं...