विकास कार्यों की समीक्षा:जाखनदादी में 12 कराेड़ रुपये की लागत से बनेगी आईटीआई, जनता की मांग के अनुरूप ही विकास कार्यों को प्राथमिकता दें

रतिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गांवों के चहुंमुखी विकास के लिए अधिकारी ग्रामीणों से भी तालमेल रखे

डीसी प्रदीप कुमार ने मंगलवार को नगरपालिका कार्यालय में केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा जिले के चहुंमुखी विकास के लिए विभिन्न परियोजनाओं के तहत किए जा रहे विकास कार्यों की समीक्षा की। बैठक में मनरेगा, अमृत सरोवर, ग्राम पंचायत से संबंधित कार्यों व अन्य स्कीमों के तहत करवाए जाने वाले विकास कार्यों पर मंत्रणा की गई। डीसी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि लंबित विकास कार्यों को शीघ्र अति शीघ्र पूरा करवाने के लिए हर स्तर पर प्रयास किए जाए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि योजनाओं का लाभ पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचना चाहिए। गांवों के चहुंमुखी विकास के लिए अधिकारी ग्रामीणों से भी तालमेल रखे।

जनता की मांग के अनुरूप ही विकास कार्यों को प्राथमिकता दें। उन्होंने जाखनदादी में बनने वाली आईटीआई के लिए 12 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। आईटीआई भवन को अच्छे ढंग से बनवाए ताकि इसका सदुपयोग हो सके। उन्होंने कहा कि 70 पंचायतों में लगभग 100 काम चल रहे हैं। मनरेगा के अंदर जो कार्य होता है, उसकी हाजिरी एमएमएस एप में लगवाएं। मनरेगा में अब तक वर्ष 2022-23 में 2 करोड़ 70 लाख खर्च हो चुके हैं। इस मौके पर रतिया एसडीएम सुभाष चन्द्र, डीआरडीए सीईओ कुलभूषण बंसल, बीडीपीओ संदीप भारद्वाज, महावीर सिंह, डीएफओ राजेश कुमार, नगरपालिका सचिव पंकज गुर्जर, सीडीपीओ रणजीत कौर, बीईओ राम सिंह, विधायक के निजी सचिव शिव दयाल, एसडीओ पंचायती राज विजय कौशिक, एचडीओ रवि गौतम मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...