पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शुरुआत:तीसरी लहर से निपटने की तैयारी... अग्रोहा कॉलेज में पहले दिन 50 डॉक्टर्स और स्टाफ की हुई ट्रेनिंग

अग्रोहा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में प्रशिक्षण लेने पहुंचे चिकित्सकों और स्टाफ को पौधे देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर नर्सिंग कॉलेज की प्रिंसिपल प्रमिला पांडे, डॉ. पवन अग्रवाल, डॉ. विक्रम, डॉ. मयंक, पीआरओ हिना अरोड़ा, गोपेश शर्मा, डॉ. राजीव चौहान, डॉ. राकेश सहारण, डॉ. सुमन राणा सहित अनेक चिकित्सक मौजूद थे। - Dainik Bhaskar
अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में प्रशिक्षण लेने पहुंचे चिकित्सकों और स्टाफ को पौधे देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर नर्सिंग कॉलेज की प्रिंसिपल प्रमिला पांडे, डॉ. पवन अग्रवाल, डॉ. विक्रम, डॉ. मयंक, पीआरओ हिना अरोड़ा, गोपेश शर्मा, डॉ. राजीव चौहान, डॉ. राकेश सहारण, डॉ. सुमन राणा सहित अनेक चिकित्सक मौजूद थे।
  • अग्रोहा मेडिकल की निदेशक डॉ. गीतिका ने प्रशिक्षण सेंटर का किया शुभारंभ

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार व स्वास्थ्य विभाग तैयारियों में जुटा है। इसके लिए महाराजा अग्रसेन मेडिकल कॉलेज अग्रोहा में ट्रेनिंग सेंटर बनाया है। मेडिकल कॉलेज के मास्टर ट्रेनर हरियाणा के पीजीआई रोहतक, कल्पना चावला करनाल, मुलाना, मेवात, खानपुर के चिकित्सकों, नर्सिंग व पैरामेडिकल स्टाफ को तीसरी लहर से निपटने के लिए ट्रेनिंग दे रहे हैं।

मेडिकल काॅलेज अग्रोहा में मंगलवार को ट्रेनिंग शिविर का निदेशक डॉ. गीतिका दुग्गल ने शुभारंभ किया। एमएस नजीर अहमद पंडित ने अध्यक्षता की। शिविर में 50 चिकित्सकों व स्टाफ ने हिस्सा लिया। सभी प्रतिभागियों को पौधे देकर सम्मानित किया गया। मास्टर ट्रेनर डॉ. सुरेंद्र गोदारा, डॉ. ज्योत्सना कामरा, डॉ. हरेंद्र, डॉ. निधि, डॉ. शेखू बिश्नोई रहे। मास्टर ट्रेनर डॉ. सुरेन्द्र सिंह गोदारा ने सभी को बच्चों को कोविड से बचाने की बारीकियां समझाई। इसके साथ ही डेमो के तौर पर रिहर्सल भी कराया गया। जिससे किसी तरह की परेशानी न हो।

डॉ. ज्योत्सना कामरा ने बताया कि तीसरी लहर का प्रभाव सबसे ज्यादा बच्चों पर होने की संभावना व्यक्त की गई है। संक्रमित बच्चों के इलाज के संबंध में जानकारी देने के साथ बच्चों को किस तरह बचाया जाए, इसका प्रशिक्षण दिया गया है। बताया, बच्चों के मानसिक विकास के लिए बाहर खेलने जाने से लेकर घूमना बहुत जरूरी होता है। बच्चों की गतिविधियों में अभिभावक स्वयं भी शामिल हों। उन पर गुस्सा न करें और उनकी दिनचर्या सही रखें।

खबरें और भी हैं...