जिला एडवाइजरी कमेटी की बैठक:पीएनडीटी एक्ट के तहत किया जाएगा 12 मामलों का निपटारा: डॉ. शांडिल्य

भिवानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल अस्पताल में पीएनडीटी की जिला एडवाजरी कमेटी की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते सिविल सर्जन डॉ. रघुबीर शांडिल्य। - Dainik Bhaskar
सिविल अस्पताल में पीएनडीटी की जिला एडवाजरी कमेटी की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते सिविल सर्जन डॉ. रघुबीर शांडिल्य।

चौ. बंसीलाल राजकीय सामान्य अस्पताल में सिविल सर्जन डॉ. रघुबीर शांडिल्य की अध्यक्षता में पीएनडीटी की जिला एडवाइजरी कमेटी की समीक्षा की। बैठक में 12 मामले कमेटी के समक्ष रखे गए। इस दौरान सिविल सर्जन डॉ. शांडिल्य ने कहा कि कमेटी के समक्ष रखे गए मामलों का निपटारा पीएनडीटी एक्ट के तहत निपटारा किया जाएगा।

कमेटी के समक्ष मलिक स्पेशियलिटी हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर में अल्ट्रासाउंड ऑपरेटर रखने से संबंधित, कदम अस्पताल भिवानी के इको कार्डियोग्राफी मशीन को अस्पताल की बेसमेंट से पहली मंजिल पर शिफ्ट करने, ओम साई अल्ट्रासाउंड एंड डायग्नोस्टिक सेंटर भिवानी में नए अल्ट्रासाउंड सेंटर खोलने की अनुमति बारे, सिटी नर्सिंग होम एवं सर्जिकल सेंटर भिवानी, गोयल मैटरनिटी एंड नर्सिंग होम भिवानी, धीर हॉस्पिटल भिवानी व पंवार हॉस्पिटल भिवानी के अल्ट्रासाउंड सेंटर की अवधि बढ़ाने बारे मामला रखा गया।

इसी प्रकार से एडवाइजरी कमेटी के समक्ष दलाल नर्सिंग होम एंड इमेजिंग सेंटर तोशाम में अल्ट्रासाउंड की अवधि बढ़ाने और अल्ट्रासाउंड मशीन को ग्राउंड फ्लोर से शिफ्ट करने, शर्मा नर्सिंग होम तोशाम में 26 सितंबर 2020 को हुई रेड मामले में पुलिस द्वारा जांच में अस्पताल के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं जाने, श्रीजी मैटरनिटी एंड नर्सिंग होम ईशरवाल के निरीक्षण पर शोकॉज नोटिस से संबंधित, शिवम फर्टिलिटी एंड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर भिवानी पंजीकरण की अवधि बढ़ाए जाने बारे और डॉ. अभय पांडेय द्वारा अपनी अल्ट्रासाउंड मशीन बेचने की अनुमति से संबंधित मामले रखे गए।

सिविल सर्जन ने एडवाइजरी कमेटी के सदस्यों के साथ सभी मामलों पर चर्चा की। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी मामलों को पीएनडीटी एक्ट के तहत निपटारा किया जाएगा। उन्होंने निर्देश देते हुए कि किसी भी अस्पताल को पीएनडीटी एक्ट के बाहर जाकर कार्य करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि जो मामले जिला एडवाइजरी कमेटी से ऊपर के हैं, उनको मुख्यालय के पास प्रदेश की एडवाइजरी कमेटी के पास मार्गदर्शन के लिए भेजा जाएगा। इस दौरान उप सिविल सर्जन डॉ. कृष्ण कुमार ने एजेंडे की रिपोर्ट प्रस्तुत की। समीक्षा बैठक में जिला न्यायवादी सुमेर सिंह, उप जिला न्यायवादी जसविंद्र सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी दीपिका बजाज, लीगल सलाहकार राजेश, डॉ. सुनीता व डॉ. रीतू फौगाट मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...