पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • After One And A Half Month After Completion Of Term, There Is No Pile Up Of Dirt In The 40 Percent Population Area Of The City Across The Railway Line Due To The Tender Of Cleanliness

नहीं हो रहा कूड़े का उठान:टर्म पूरी होने के डेढ़ महीने बाद भी सफाई का टेंडर नहीं लगने पर रेलवे लाइन पार शहर के 40 प्रतिशत के आबादी क्षेत्र में लगे गंदगी के ढेर

भिवानी5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भिवानी। जीतूवाला जोहड़ क्षेत्र में रेलवे फाटक के पास दूर तक फैला कचरा।

सफाई से संबंधित कार्यों के लिए उच्चाधिकारियों की स्वीकृति की शर्त के कारण नगरपरिषद शहर में सफाई कार्य के ठेके का टेंडर नहीं लगा पा रही है। जबकि शहर के एक भाग में सफाई का टेंडर खत्म हुए डेढ़ महीना हो चुका है। इसके चलते शहर की 40 प्रतिशत आबादी क्षेत्र में सफाई व कूड़ा उठान का कार्य प्रभावित हो रहा है और लोगों को गंदगी के कारण परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं।

शहर में रेलवे लाइन पार स्थित मंडी टाउनशिप, कृष्णा कॉलोनी, जीतूवाला जोहड़ व टीआईटी क्षेत्र समेत लगभग दो दर्जन कॉलोनियों में सफाई कार्य का ठेका समाप्त हुए डेढ़ महीना बीत चुका है। इसके कारण इन क्षेत्रों में न तो नियमित रूप से सफाई हो रही है और न ही कूड़े का उठान। कृष्णा कॉलोनी में मेन चौक, पार्क के सामने व व सड़क की फुटपाथों पर भी सफाई नहीं नहीं हो पा रही हैं। इन प्रभावित क्षेत्रों में अधिकतर लोग अपने घरों के कचरे को कचरा प्वाइंट पर डालने को मजबूर है लेकिन कचरा प्वाइंटों से भी कुछ दिनों से कूड़े का उठान नहीं हो रहा हैं। कृष्णा कॉलोनी रेलवे फाटक के पास कूड़ा फैला हुआ है। ऐसा ही हाल तोशाम रोड स्थित टीआईटी क्षेत्र में बना हुआ है।

इसलिए हो रही टेंडर में देरी

अगस्त में सफाई का टेंडर खत्म हुआ। इसी दौरान नगरपरिषद को सरकार की तरफ से गाइडलाइन प्राप्त हुई कि सफाई से संबंधित कोई भी कार्य व उपकरण खरीद के लिए पहले चंडीगढ़ स्थित उच्चाधिकारियों से स्वीकृति लेनी होगी। जबकि पहले नप हाउस मीटिंग में प्रस्ताव पास होने के बाद डीसी की स्वीकृति से टेंडर जारी किए जा सकते थे। नप ने एक महीने पहले इस संबंध में प्रस्ताव चंडीगढ़ भेज दिया था लेकिन अभी तक उच्चाधिकारियों की तरफ से स्वीकृति नहीं मिल पाई है। इसके कारण न तो सफाई का टेंडर लगाया जा सका और न ही टेंडर की समय अवधि को बढ़ाया जा सका।

क्या है शहर में सफाई की व्यवस्था

1. शहर में लगभग एक लाख की आबादी क्षेत्र में सफाई व कूड़े के उठान की जिम्मेदारी नगरपरिषद के 340 कर्मचारियों पर है, जिनमें 180 पक्के व 160 कच्चे कर्मचारी शामिल है। जो क्षेत्र में टिप्पर ऑटो के अलावा साइकिल रेहड़ी, हाथ रेहड़ी, ट्रैक्टर ट्रॉली से कूड़े का उठान करते है। शहर के सरकुलर रोड, बाजार व पुराने शहर में सफाई करने की जिम्मेवारी भी इन्हीं के कंधों पर है। 2. सेक्टर 13 व 23 समेत एक दर्जन कॉलोनी क्षेत्र में सफाई व कूड़े के उठान का कार्य ठेके पर दिया गया है। जहां मौजूदा समय में भी ठेकेदार के कर्मचारी कार्य कर रहे है। 3. रेलवे लाइन पार स्थित दो दर्जन कॉलोनियों में सफाई का कार्य भी ठेके पर दिया गया था लेकिन टेंडर खत्म होने के बाद यह जिम्मेवारी भी नप सफाई कर्मचारियों के कंधों पर है। इसके कारण नप कर्मचारी इस प्रभावित क्षेत्र में नियमित रूप से न तो सफाई कार्य कर पाते है और न ही कूड़े का उठान। इसके कारण इस क्षेत्र में जगह जगह कूड़े के ढेर लगे हुए हैं।

नए दिशा-निर्देशों के कारण पड़ रहा असर

सफाई से संबंधित नए दिशा निर्देश के कारण प्रभावित क्षेत्र में सफाई का टेंडर लगाने में देरी हो रही है। इस संबंध में नप के प्रयास चल रहे हैं और जल्द ही सफाई का टेंडर लगाया जाएगा। - विकास कुमार, सफाई निरीक्षक, नप।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें