गंदगी का अंबार:दिवाली के दो दिन बाद सड़कों पर कूड़ा दो माह में भी नहीं लगा सफाई का टेंडर

भिवानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भिवानी. सिविल अस्पताल के पास से उठान न हाेने के कारण पड़ा हुआ कचरा। - Dainik Bhaskar
भिवानी. सिविल अस्पताल के पास से उठान न हाेने के कारण पड़ा हुआ कचरा।
  • सूरत-ए-हाल } आधे शहर में 31 अगस्त को खत्म हो चुका है सफाई का ठेका

सेक्टर समेत एक दर्जन काॅलाेनियाें में सफाई का ठेका खत्म हाेने से आधे शहर में सफाई व कुड़ा उठान की व्यवस्था बाधित हाे रही हैं। इसके कारण गली-माेहल्ले व नुक्कड़ाें पर नगरवासियों काे गंदगी के ढेर दिखाई दे सकते हैं। हालांकि फिलहाल पुराना ठेकेदार ही एडीसी की रिक्वेस्ट पर सफाई व कूड़े के उठान का कार्य करवा रहा है। शहर में वार्ड-13, 23, विद्यानगर, कीर्ति नगर, विकास नगर, विजय नगर, आदर्श नगर, इंद्रा काॅलाेनी क्षेत्राें में सफाई का ठेका 31 अगस्त काे खत्म हाे चुका है। ठेकेदार एडीसी की रिक्वसेट पर दीपावली तक ठेका अवधि समाप्त हाेने के बाद भी सफाई का कार्य जारी रखे हुए था। एेसे में अगले कुछ दिनाें में अगर नया टेंडर नहीं खाेला गया ताे पुराना ठेकेदार शहर में सफाई व्यवस्था जारी रखने से हाथ खड़े कर सकता है। इसके कारण शहरवासियों काे गंदगी काे लेकर परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

...तो और बिगड़ सकते हैं हालात

शहर में सफाई का टेंडर इस बार सरकार की तरफ से चंडीगढ़ में लगाया गया है और टेंडर साेमवार काे खुलने की उम्मीद है। अगर साेमवार का टेंडर नहीं खुला या टेंडर में किसी कंपनी ने भिवानी शहर में सफाई का कार्य करने की स्वीकृति नहीं दी ताे नगर में सफाई व्यवस्था प्रभावित हाे जाएगी। फिलहाल शहर में वार्ड नंबर 17, 18 व 19 में ठेके पर सफाई कार्य हाे रहा हैं।

नप से हटाए जा चुके 50 ठेका कर्मी

नगर परिषद में मैन पावर का ठेका भी समाप्त हाे चुका है। बताया जा रहा है सरकार ने प्रदेश स्तर पर नप में मैन पावर का ठेका समाप्त कर दिया है। इससे नप में टिप्पर ऑटो, क्रेन, जेसीबी आदि वाहनाें पर काम करने वाले ठेके कर्मचारियों काे हटा दिया गया है। नप में लगभग 50 ऐसे कर्मचारी कार्यरत थे जाे मैन पावर ठेके के तहत कार्य करते थे।

शहर में ये है व्यवस्था

आधे शहर में नगरपरिषद के सफाई कर्मचारी सफाई व कूड़े के उठान का कार्य करते हैं। जबकि सेक्टर समेत आधे हर में तीन कंपनियों के द्वारा ठेके पर सफाई व कूड़े का उठान करवाया जा रहा है। दाे ठेकेदाराें की कार्य अवधि समाप्त हाे चुकी है। नगरपरिषद में 160 कच्चे सफाई कर्मी, 143 पक्के कर्मचारी है। दाे जेसीब, एक लाेडर, 16 टिप्पर ऑटो व 7 ट्रैक्टर ट्राॅली है। जिनसे आधे हर में नप कर्मचारी सफाई व कूड़े का उठान करते हैं।

जल्द ही खुलने वाला है टेंडर

^टेंडर जल्द खुलने वाला है। शहर में नगरपरिषद व ठेके के कर्मचारियों द्वारा नियमित रूप से सफाई व कूड़े के उठान का कार्य करवाया जा रहा है।'' -संजय यादव, ईओ नप।

खबरें और भी हैं...