राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार:भिवानी की गणित प्रवक्ता ममता पालीवाल का राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए चयन

भिवानी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नेशनल ज्यूरी ने टीचिंग लर्निंग मैटीरियल काे किया सबसे ज्यादा पसंद

छाेटी काशी व मिनी क्यूबा के नाम से मशहूर भिवानी का नाम अब शिक्षा के क्षेत्र में भी चमक रहा है। खेलाें के साथ-साथ भिवानी शिक्षा हब के रूप में भी उभरकर सामने आ रहा है।

जी हां, हम बात कर रहे हैं राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय भिवानी में कार्यरत बताैर गणित प्रवक्ता ममता पालीवाल की जिनका हरियाणा प्रदेश से राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए चयन हुआ है। शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य के लिए इन्हें शिक्षक दिवस पर पांच सितंबर को राष्ट्रपति भवन में सम्मानित किया जाएगा। प्रवक्ता ममता पालीवाल ने बताया कि शिक्षा के क्षेत्र में उनका 10 वर्ष का अनुभव है।

वे वर्ष 2011 में जीजीएचएस देवराला में गणित अध्यापिका लगी थी। इसके बाद उनका प्रमोशन वर्ष 2016 में भिवानी स्थित राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में बतौर प्रवक्ता हाे गया। राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए चयन पर शिक्षिका के ससुर महावीर प्रसाद, सास हरबाई देवी ने कहा कि उन्हें उनकी पुत्रवधू पर गर्व है। स्कूल प्राचार्या किरण गिल, स्टाफ सदस्यों सहित छात्राओं ने ममता पालीवाल का राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए चयन होने पर हर्ष जताया।

टीचिंग लर्निंग मॉड्यूल ने करवाया राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चयन

ममता पालीवाल का कहना है कि उनकी गणित में शुरू से ही रूचि रही है। उन्हाेंने बताया कि नेशनल ज्यूरी काे उनके टीचिंग लर्निंग मॉड्यूल यानि मैथेमेटिक्स के एजुकेशनल गेम्स बहुत पसंद आए। नेशनल ज्यूरी ने भी इनके टीचिंग लर्निंग मैटीरियल काे सबसे ज्यादा पसंद किया है और इनके द्वारा बनाए गए वीडियो भी मंगवाए हैं।

गणित में रूचि इतनी बढ़ गई कि उन्हाेंने खुद के फॉर्मूला और गेम्स बनाने शुरू कर दिए। वे रोजाना स्कूल में गणित पढ़ने-पढ़ाने, मॉडल बनाने, फॉर्मूला तैयार करने व गेम्स बनाने आदि में सात-आठ घंटे लगाती हैं। उनके पति बीर सिंह भी एक शिक्षक हैं जाे सरकारी जाॅब की तैयारी कर रहे हैं। उनका बेटा विशेष आठवीं कक्षा और बेटी दिव्यांशी चौथी कक्षा में पढ़ाई कर रही हैं।

खबरें और भी हैं...