मकर संक्रांति:शहरवासियाें ने किया दान पुण्य, काेविड-19 के प्रभाव के चलते कम ही स्थानों पर लगी सब्जी, छोले-पूरी और पकौड़ाें की स्टाल

भिवानी3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इंप्रूवमेंट ट्रस्ट मार्केट में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को कानून की जानकारी देते हुए वक्ता। - Dainik Bhaskar
इंप्रूवमेंट ट्रस्ट मार्केट में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को कानून की जानकारी देते हुए वक्ता।

मकर संक्राति पर्व पर इस बार शहर में काेविड-19 केसाें में बढ़ाेतरी के चलते शुक्रवार को 50 से अधिक स्थानों पर छोटे-बड़े भंडारे लगाए गए व वस्त्र दान किया गया। हालांकि बीते साल 200 से अधिक स्थानाें पर कार्यक्रमाें का आयोजन किया गया था। शुक्रवार को प्रसाद वितरण कार्यक्रमों में पकौड़े, अालू सब्जी, छोले-पूरी व जलेबी आदि खाने पीने के स्टाल लगाए हुए थे। अनेक स्थानों पर तो सुबह छह बजे से ही भंडारे के लिए प्रसाद बनाना शुरू कर दिया था।

सिद्धस्थल जाेगीवाला शिव मंदिर के महंत वेदनाथ महाराज ने मकर सक्रांति पर धर्म-कर्म के तहत जरूरतमंदों को 225 कंबल वितरित कर मकर सक्रांति का पर्व मनाया। उन्हाेंने बताया कि संक्रांति को उत्तरायण भी कहते हैं। उत्तरायण में दिन बड़े और रातें छोटी होती जाती हैं। मकर संक्रांति के दिन सूर्य की खास पूजा होती है। सूर्य के राशि बदलने से हर दो महीने में ऋतु बदलती है। मकर संक्रांति एक ऋतु पर्व है। ठंड का मौसम होने की वजह से मकर संक्रांति पर सूर्य पूजा और तिल-गुड़ अादि खाने की परंपरा बनाई, क्योंकि ये अन्न शीत ऋतु में शरीर के लिए फायदे मंद होता है।

इस अवसर पर प्रदीप नाथ महाराज भी माैजूद रहे। मकर संक्रांति के पर्व पर गांव कोंट जलघर पर जनस्वास्थ्य विभाग के कनिष्ठ अभियंता ब्रिजेश कुमार जावला द्वारा सहकर्मियों व ग्राम पंचायत की उपस्थिति में हवन किया गया। निवर्तमान सरपंच हरेंद्र सिंह ने बताया कि इस जलघर का निर्माण आज से 50 वर्ष पूर्व 1972 में किया गया था और पिछले काफी सालों से यह विभागीय उपेक्षा का शिकार था, मगर जावला जेई के आने के बाद से अब तक छह माह में इस जलघर की कायाकल्प की जा रही है।

इस दाैरान डिप्लोमा इंजीनियर एसोसिएशन द्वारा छपवाए गए नववर्ष के कलेंडर व प्रसाद वितरित किया गया। इस अवसर पर पूर्व सरपंच सतवीर सिंह, पंच मित्रपाल, सुरेश सैनी, रामेहर, अशोक, हुकमचंद, जयवीर ठेकेदार सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

दादरी गेट स्थित अपनाघर आश्रम में रीति संगम एजुकेशन वेलफेयर एसोसिएशन की प्रदेशाध्यक्ष इंदु परमार व उसकी टीम सदस्यों ने जरूरतमंद बुजुर्गों को गर्म कंबल, रेवडी, मूंगफली वितरित की। इसमें बिमला टिटाणी, कृष्णा, सुरेश, निशा, नेहा, प्रभा, उषा ने अपना सहयोग किया। उन्होंने कहा कि आज का दौर बीमारियों से भरा हुआ है। कोरोना व ओमिक्राॅन जैसी खतरनाक बीमारियों से हमें कुछ सावधानी अपनाकर ही अपना तथा परिवार का ध्यान रखना होगा।

मकर संक्रांति पर्व पर जरूरतमंद लाेगों को ई-श्रम कार्ड बनवाने और कानून के प्रति किया जागरूक
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के चेयरमैन तथा जिला एवं सत्र न्यायाधीश रमेश चंद्र डिमरी के निर्देशानुसार आजादी के अमृत महोत्सव के तहत शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में जरूरतमंद नागरिकों के ई-श्रम कार्ड बनवाने और कानून के प्रति जागरूक किया जा रहा है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एवं मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी हिमांशु सिंह ने बताया कि मकर संक्रांति पर्व पर शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में जरूरतमंद नागरिकों के ई-श्रम कार्ड बनवाने और कानून के प्रति जागरूक शिविर लगाया जा रहे हैं।

हर त्योहार का हमारे जीवन में विशेष महत्व होता है: सुशीला
मकर सक्रांति पर वुमैन हेल्पिंग सोसायटी ने जरूरतमंद व विधवा महिलाओं को शॉल, कंबल व स्वेटर वितरित किए। महिलाओं को गर्म वस्त्र वितरित करते हुए सोसायटी प्रधान सुशीला देवी ने मकर सक्रांति पर्व के बारे जानकारी दी। इस अवसर पर सोनिया, बाली, पूनम, ममता, सीता, अनिता व पूजा आदि उपस्थित रही।

खबरें और भी हैं...