भिवानी में मजार पर चले हथौड़े:ढ़ाणा रोड पर बने धार्मिक स्थल पर विवाद; बजरंग दल ने स्थापित की हनुमान की प्रतिमा, SP बोले-जांच का विषय

भिवानी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के भिवानी में मंदिर या मजार के विवाद को हवा देने का प्रयास हुआ है। ढ़ाणा रोड के धार्मिक स्थल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है, जिसमें भगवाधारी युवक एक मजार को तोड़ कर यहां पर राम भक्त हनुमान की प्रतिमा लगाते नजर आते हैं। गौर करने वाली बात यह है कि जहां मजार पर हथौड़े चल रहे हैं, वहां मंदिर के उद्घाटन का बोर्ड लगा है। अंदर मजार कैसे है, एसपी इसकी जांच कराने की बात कह रहे हैं। फिलहाल पुलिस को मामले से जुड़ी कोई शिकायत नहीं मिली है।

भिवानी के ढ़ाणा रोड पर मजार तोड़ने के बाद रखी गई हनुमान जी की मूर्ति।
भिवानी के ढ़ाणा रोड पर मजार तोड़ने के बाद रखी गई हनुमान जी की मूर्ति।

पहले भी हो चुका विवाद

जानकारी के अनुसार भिवानी में ढ़ाणा रोड पर एक धार्मिक स्थल बना हुआ है। इसके मुख्य द्वार पर एक लगे बोर्ड पर लिखा है कि इस मंदिर का निर्माण नंद किशोर शर्मा दत्तक पुत्र स्व. श्री फूलचंद शर्मा अपनी माता स्व. श्रीमती तारा देवी की याद में 1 अगस्त 2021 को कराया। इसमें चौकाने वाली बता यह है कि अगर यहां मंदिर है तो फिर अंदर मजार कहां से आ गई। कहा जा रहा है कि इस जगह को लेकर पहले भी विवाद हो चुका है।

धार्मिक स्थल के गेट पर लगा बोर्ड।
धार्मिक स्थल के गेट पर लगा बोर्ड।

वीडियो में गूंज रहे जयश्री राम के नारे

यहां को जो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है, उसमें बजरंग दल के कार्यकर्ता जयश्री राम के नारों के बीच मजार सरीखे पत्थर पर हथौड़े बरसाते नजर आ रहे हैं। मजार तोड़ने के बाद यहां पर हनुमान जी की प्रतिमा स्थापित की जाती है। वीडियो शनिवार को हनुमान जयंती का बताया जा रहा है। पुलिस इसकी जांच कर रही है कि कहीं ये पूरा मामला जातीय उन्माद फैलाने के लिए तो नहीं गढ़ा गया।

भिवानी के एसपी अजीत सिंह शेखावत ने कहा कि यहां मंदिर थी या मजार, जांच का विषय है।
भिवानी के एसपी अजीत सिंह शेखावत ने कहा कि यहां मंदिर थी या मजार, जांच का विषय है।

एसपी बोले- फिलहाल कोई शिकायत नहीं

भिवानी के एसपी अजीत सिंह शेखावत का कहना है कि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। जहां मजार तोड़ने की बात सामने आई है, इसको बनवाने और इसकी रखवाली करने वाले दोनों ही हिंदू हैं। पुलिस जांच कर रही है कि बिल्डिंग के अंदर मंदिर थी या मजार। जांच के बाद ही मामले में कुछ कहा जा सकता है। अभी तक इस मामले में किसी की कोई शिकायत भी नहीं मिली है। किसी ने सांप्रदायिक दंगा भड़काने का प्रयास किया है तो पुलिस उस तक पहुंच कर रहेगी।