विरोध / पेट्रोल-डीजल के दोमों में वृद्धि के खिलाफ माकपा ने किया प्रदर्शन, राष्ट्रपति के नाम सौंपा ज्ञापन

X

  • केंद्र सरकार की ओर से लगातार बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दामों को वापस करवाने की मांग

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

भिवानी. वामपंथी पार्टियों के आह्वान पर कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) ने केंद्र सरकार द्वारा लगातार बढ़ाए गए पेट्रोल डीजल के दामों को वापस करवाने की मांग को लेकर डीसी कार्यालय पर प्रदर्शन किया। उन्होंने डीसी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा। प्रदर्शन व सभा की अध्यक्षता भिवानी शहरी एरिया कमेटी के सदस्य कुलभूषण आर्य  व संचालन जिला सचिव मंडल सदस्य अनिल कुमार ने किया।

जिला सचिव मंडल सदस्य सज्जन कुमार सिंगला ने बताया कि भाजपा सरकार कोरोना महामारी को भी पूंजीपतियों को और ज्यादा लूटने देने की छूट के अवसर के रूप देख रही है। अतंरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल के रेट लगातार कम हो रहे हैं जबकि दूसरी ओर पिछले 15 दिनों से लगातार पेट्रोल व डीजल के दामों में 12 रुपये की बढ़ोतरी हो चुकी है। उन्होंने बताया कि लगातार रेट बढ़ोतरी के चलते आज 70 साल में पहली बार डीजल के रेट पेट्रोल के बराबर हो चुके हैं।

डीजल के रेट बढ़ने के चलते किसान व आम जनता पर बोझ बढ़ गया है। कोरोना महामारी के चलते बेरोजगारी व मंहगाई के कारण जनता पहले ही त्रस्त है। इस दौरान राज्य व केन्द्र सरकार ने डीजल पेट्रोल पर अपने टैक्सों में बढ़ोतरी करके आम जनता की जेब पर डाका डालने का काम किया है।

सचिव मंडल सदस्य अनिल कुमार ने बताया कि वामपंथी पार्टियों के आह्वान पर 29 जून से 2 जुलाई तक देश भर में रेट बढ़ोतरी के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन कर राष्ट्रपति का ज्ञापन भेजकर डीजल पैट्रोल के रेट को कम करके आम जनता को राहत देने की मांग की जा रही है। इस अवसर पर ओमप्रकाश सैनी, सुखदेव पालवास, सरोज श्योराण, महाबीर चांग, खेल अधिकारी सुन्दर कोच, कुलभूषण आर्य, फूलचंद आदि ने भी अपने विचार रखे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना