पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कृषि कानूनों का विरोध:जिले में किसानों ने 32 जगह पर किया चक्का जाम बे रोकटोक आने-जाने दीं एंबुलेंस-सेना की गाड़ियां

भिवानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भिवानी। चक्का जाम के दौरान कितलाना टोल स्थित मुख्य सड़क पर लेटकर सरकार विरोधी नारे लगाकर प्रदर्शन करते मौजूद नागरिक। - Dainik Bhaskar
भिवानी। चक्का जाम के दौरान कितलाना टोल स्थित मुख्य सड़क पर लेटकर सरकार विरोधी नारे लगाकर प्रदर्शन करते मौजूद नागरिक।
  • आंदोलनकारियों में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या रही ज्यादा

सयुंक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों ने तीन घंटे शांतिपूर्ण चक्का जाम रखा। 8 दिसंबर के भारत बंद की तुलना में शनिवार को आंदोलनकारियों की संख्या दोगुना रही। जिले में 32 जगहों पर नेशनल व स्टेट हाईवे पर जाम के दौरान सरकार के खिलाफ किसानों में खूब आक्रोश दिखाई दिया।

चक्का जाम के दौरान शोक सभाओं में जाने वाले नागरिकों से लेकर स्वास्थ्य सेवाओं सहित मिलिट्री के जवानों को बिना रोक टोक के गुजरने दिया। धरनों में पुरुषों से ज्यादा संख्या महिलाओं की रही। लोहारू व ढिगावा में जहां 6-6 जगह रास्ता रोका गया।

वहीं धनाना में जाटू खाप 84 के अध्यक्ष सूबेदार राजमल सिंह की अध्यक्षता में भिवानी जींद मार्ग को जाम रखा। दूसरी ओर जजपा किसान प्रकोष्ठ के जिला उपाध्यक्ष अनिल धनाना ने किसान आंदोलन के समर्थन में अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

पुलिस ने भारी वाहनों का रूट किया डायवर्ट

चक्का जाम से पहले ही पुलिस ने वाहनों के रूट डायवर्ट करवाने शुरू कर दिए थे। बहुत कम वाहन चक्का जाम स्थल तक पहुंचे, जिन्हें आंदोलनकारियों ने सहयोग की अपील करते हुए वापिस भेज दिया। जिले भर में पुलिस जाम स्थल के दोनों तरफ 100 से 200 मीटर की दूरी पर मुस्तैद रही। अग्निशमन विभाग की गाड़ी व एम्बुलेंस भी जाम स्थल से 100 मीटर की दूरी पर शाम 3 बजे तक खड़ी रही।

चक्का जाम में दिया 36 बिरादरी ने साथ: अभिजीत

चांग| कालवास व गुजरानी चौराहे पर कालवास, नाथूवास व मिताथल के किसान, मजदूर व महिलाओं ने तीन घंटे तक रास्तों को बंद रखा। दोनों ओर से सैंकड़ो वाहनों के पहिये जाम हो गए। धरने को सं‍बोधित करते हुए कांग्रेस युवा के जिलाध्यक्ष अभिजीत लाल सिंह ने कहा कि ये सभी किसान मजदूरों के हक की लड़ाई है। इसमें आंदोलन में 36 बिरादरी हिस्सा ले रही है। यह आंदोलन अब जन आंदोलन बन गया है।

लोहारू व सिंघानी सहित छह स्थानों पर किए हाईवे जाम

लोहारू| लोहारू में देवीलाल चौक पर रोड जाम किया गया। रोड़ जाम की अध्यक्षता सर्वजातीय श्योराण खाप चौरासी के प्रधान प्रतिनिधि कर्मवीर फरटिया, किसान नेता धर्मपाल बारवास व उमेद फरटिया ने संयुक्त रूप से की। नेशनल हाईवे 709 ई, 334 बी सहित एनएच व राजकीय राजमार्ग को जाम किया गया। सिंघानी में ग्रामीणों ने सिवानी मार्ग पर ट्रक खड़े करवाकर जाम किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

तोशाम में छह जगह पर रोके रास्ते

तोशाम| प्रस्तावित चक्का जाम के तहत ठीक 12 बजे तोशाम- भिवानी मार्ग पर सागवान चौक पर जाम लगा दिया गया। इसके अलावा तोशाम में जुई मोड पर जाम लगाकर तोशाम जुई- सतनाली और तोशाम से बहल, सिवानी को जाने वाले मार्ग को अवरुद्ध कर दिया गया। तोशाम- बहल मार्ग पर गांव थिलोड और पटौदी में भी जाम लगा दिया गया।

उधर सिवानी मार्ग पर गांव मिरान में चौक पर जाम लगाया गया और ईशरवाल गांव में मुख्य मार्ग पर जाम लगाकर यहां से निकलने वाले सिवानी- लोहारू, बहल, तोशाम के मार्गों को अवरुद्ध कर दिया गया। धरने पर बैठे किसानों ने आह्वान किया कि सभी किसान एकजुटता का परिचय दें।

बामला में छह गांव के किसानों ने पहुंचकर किया चक्का जाम

भिवानी क्षेत्र में कितलाना टोल पर चल रहे धरने पर दोपहर 12 से 3 बजे तक भिवानी दादरी मार्ग को पूरी तरह से बंद रखा गया। वहीं भिवानी हांसी मार्ग पर प्रेमनगर गांव के किसानों ने भी रास्ता रोके रखा। वहीं बामला में किसानों ने भी भिवानी रोहतक मार्ग को जाम किया। बामला धरने में सांगा, सिरसा घुंघटा, नौरंगाबाद, सैनियों वाली ढाणी, रेवाड़ी खेड़ा व फुलपुरा गांव के किसान सैकड़ों की संख्या में शामिल हुए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें