सांसद का विरोध:किसानों ने भिवानी पहुंचीं सिरसा की सांसद सुनीता दुग्गल का किया विरोध

भिवानी22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भिवानी. प्रेक्षा विहार में सिरसा सांसद सुनीता दुग्गल के कार्यक्रम के दाैरान काले झंडे दिखाने पहुंचे किसान व माैजूद लाेगाें काे अागे बढ़ने से राेकती पुलिस। - Dainik Bhaskar
भिवानी. प्रेक्षा विहार में सिरसा सांसद सुनीता दुग्गल के कार्यक्रम के दाैरान काले झंडे दिखाने पहुंचे किसान व माैजूद लाेगाें काे अागे बढ़ने से राेकती पुलिस।
  • पुलिस ने किसानाें काे समारोह स्थल के बाहर बेरिकेड्स लगाकर राेका

तीन कृषि कानूनों काे लेकर संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसानाें द्वारा भाजपा नेताओं का विरोध लगातार जारी है। शनिवार काे भी किसानों ने सिरसा की सांसद सुनीता दुग्गल का भिवानी पहुंचने पर विरोध किया और उन्हें काले झंडे दिखाने के लिए प्रेक्षा विहार स्थित कार्यक्रम स्थल के बाहर पहुंचे। लेकिन पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानाें काे बेरिकेड्स लगाकर राेक दिया। किसान लगभग 20 मिनट तक काले झंडे लहराते और नारेबाजी करते रहे। किसान भाजपा नेताओं का विरोध कर रहे हैं। जब भी किसानाें काे पता चलता है कि भाजपा नेता किसी कार्यक्रम में पहुंचा है ताे वे काले झंडे लेकर समारोह स्थल के आसपास पहुंच जाते है। किसान नारेबाजी करते हुए समारोह की तरफ बढ़ते है ताे पुलिस बल बेरिकेड्स लगाकर उन्हें रास्ते में ही राेक लेता है। शनिवार काे प्रेक्षा विहार में प्रतिभा विकास डीएस मंच की तरफ से राज्य स्तरीय प्रतिभा सम्मान समारोह का आयाेजन किया गया था। समारोह में मुख्यातिथि के रूप में सिरसा से भाजपा सांसद सुनीता दुग्गल ने शिरकत की थी। किसानाें काे जब पता चला कि समारोह में भाजपा नेता सांसद सुनीता दुग्गल पहुंची है ताे अनेक किसान किराेड़ीमल पार्क में जमा हाे गए और नारेबाजी करते हुए नजदीक स्थित समारोह स्थल प्रेक्षा विहार के पास पहुंचे लेकिन पहले से भी भारी पुलिस बल प्रेक्षा विहार के बाहर बेरिकेड्स लगाकर तैयार था। किसानाें ने बेरिकेड्स हटाने का भी प्रयास किया लेकिन भारी पुलिस बल मौजूद हाेने के कारण किसान बेरिकेड्स नहीं हटा पाए। इसके बाद किसानाें ने हाथाें में लिए काले झंडे लहराते हुए नारेबाजी की व सिरसा की सांसद गो बैंक के नारे लगाए।

ये कहना है किसान नेताओं का

संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य कमल प्रधान व कामरेड ओमप्रकाश ने कहा कि वे किसान मोर्चा के निर्देश पर यह शांतिपूर्ण विरोध कर रहे हैं, उनका किसी से व्यक्तिगत विरोध नहीं है। किसान केवल सरकार के प्रतिनिधियों का विरोध कर रहे है। यह विरोध तब तक जारी रहेगा जब तक तीनों कृषि कानून रद्द नहीं होते और किसानाें काे एमएसपी की गांरटी नहीं मिलती। विरोध प्रदर्शन में बलबीर सिंह बजाड़, बलवान एमसी, अनिल शेषमा, जेपी काैशिक, रामफल देशवाल, सुशीला धनाना, संतोष देशवाल, नरेन्द्र घनघस, राजबीर बोहरा, राजसिंह जताई, अनूप राठी, महाबीर धनाना आदि किसान शामिल थे।

खबरें और भी हैं...