पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसान आंदोलन:मोदी को गरीब जनता के दुख तकलीफ से कोई सरोकार नहीं: संतोष देशवाल

भिवानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भिवानी। कितलाना टोल पर जारी किसानाें के अनिश्चितकालीन धरने पर रानी लक्ष्मीबाई को याद करते किसान। - Dainik Bhaskar
भिवानी। कितलाना टोल पर जारी किसानाें के अनिश्चितकालीन धरने पर रानी लक्ष्मीबाई को याद करते किसान।

महान वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई ने देश की आजादी के लिए 1857 में लड़े गए पहले स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभाते हुए अपने प्राण न्योछावर कर दिए थे। यह बात कितलाना टोल पर अध्यक्ष मंडल की सदस्य धर्मा देवी और ब्रह्मादेवी ने धरने को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि हमारे बुजुर्गों ने आजादी से पहले गौरों से लड़ाई लड़ी थी और अब हमें चोरों के खिलाफ संघर्ष करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे हकों पर सरेआम डाका डाला जा रहा है और पूंजीवाद को बढ़ावा दिया जा रहा है।

इससे पहले धरने पर दो मिनट का मौन रखकर रानी लक्ष्मीबाई को श्रद्धांजलि दी गई। महिला किसान नेत्री संतोष देशवाल ने कहा कि गुलामी की बेड़ी तोड़ने के बाद हमारा दुर्भाग्य है कि जो सपने देश की आवाम ने देखे थे वो सब धूल में मिल गए हैं। सरकार का गठन लोगों की, लोगों द्वारा और लोगों के लिए होता है लेकिन वर्तमान में सरकार का अर्थ पूंजीपतियों की, पूंजीपतियों द्वारा और पूंजीपतियों के लिए होकर रह गया है।

देश के मुखिया नरेंद्र मोदी का ध्यान महज अपने चेहते महा धनवान मित्रों के हित साधने पर लगा हुआ है। आम गरीब जनता के दुख तकलीफ से उन्हें कोई सरोकार नहीं है। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर कितलाना टोल पर धरने के 176वें दिन सांगवान खाप 40 के सचिव नरसिंह डीपीई, श्योराण खाप 25 के प्रधान बिजेंद्र बेरला, जाटू खाप के मास्टर राजसिंह, सुभाष यादव, धर्मा देवी, ब्रह्मादेवी ने संयुक्त रूप से अध्यक्षता की।

धरने का मंच संचालन रणधीर घिकाड़ा ने किया। इस अवसर पर सूरजभान झोझू, सुरेन्द्र कुब्जानगर, सुखदेव पालवास, रणधीर कुंगड़, मीरसिंह सिंहमार, राजू मान, कमल प्रधान, धर्मेंद्र छपार, राजबीर सरपंच चंदेनी आदि मौजूद थे।

निमड़ीवाली में चल रहे किसानों के धरने को गांव हालुवास ने दिया समर्थन
भिवानी| गांव निमड़ीवाली में हरियाणा पावर ग्रिड, बिजली वितरण निगम व जिला प्रशासन के खिलाफ किसानों द्वारा दिए गए अनिश्चितकालिन धरने के दूसरे दिन गांव हालुवास के किसानों ने अपना समर्थन दिया। धरने की अध्यक्षता जयनारायण सिंहमार ने की। भाकियू के जिलाध्यक्ष राकेश आर्य ने बताया कि धरना हालुवास, धिराणा, गोविंदपुरा, ढाणा नरसान, ढाणा लाडनपुर, अजीतपुर, गौरीपुर, कितलाना, प्रहलादगढ़, रूपगढ़, ढाणी जंगा, नवां, राजगढ़, झरवाई व नंदगांव के किसानों द्वारा दिया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि यह धरना जब तक जारी रहेगा तब तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाता। उन्होंने बताया कि हरियाणा पावर ग्रिड, बिजली वितरण निगम व जिला प्रशासन की मनमानी व जबरदस्ती के विरोध में धरना शुरू किया गया है। उन्होंने कहा कि अगर किसानों के खेतों में बिना मुआवजा दिए जबरदस्ती लगाए जा रहे बिजली के टॉवर व लाइन पर रोक नहीं लगाई गई तो वे आर-पार की लड़ाई लड़ने पर मजबूर होंगे जिसकी जिम्मेेवारी हरियाणा पावर ग्रिड, बिजली वितरण निगम व जिला प्रशासन की होगी।

गांव हालुवास से धरने को समर्थन देते हुए कैप्टन दिनेश ने कहा कि किसानों के साथ किसी भी प्रकार की जोर जबरदस्ती ना की जाए। पहले उन्हें उनकी मांग के अनुसार मुआवजा दिया जाए और झूठे मुकदमों को वापस लिया जाए, उसके बाद टॉवर लगाने व बिजली की लाइन बिछाने का कार्य किया जाए। धरने को राजेन्द्र शर्मा हालुवास, सुभाष हालुवास, प्रमोद यादव, विक्रम यादव, कुलबीर बोहरा, मनोज ढाणा, अमीर सिंह राहड़, राजबीर दहिया, नवीन जालवाल, होशियार सिंह प्रजापत आदि ने भी संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...