• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Bhiwani
  • On The Kitlana Toll, The Farmers Demanded The Dismissal Of The Union Minister Of State For Home, The Call Of The Joint Farmers' March On October 18, Farmers Across The Country Would Train Railroads.

किसानों में भारी रोष:कितलाना टोल पर किसानाें ने की केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री को बर्खास्त करने की मांग, संयुक्त किसान माेर्चा का आह्वान- 18 अक्टूबर काे देशभर में रेल राेकें किसान

भिवानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कितलाना टाेल पर जारी किसानाें के अनिश्चितकालीन धरने पर माैजूद किसान व गणमान्य लाेग। - Dainik Bhaskar
कितलाना टाेल पर जारी किसानाें के अनिश्चितकालीन धरने पर माैजूद किसान व गणमान्य लाेग।

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर लखीमपुर खीरी तिकुनिया की घटना को लेकर किसानों में भारी रोष है। किसान नेताओं ने केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री को पद से बर्खास्त करने तथा उन पर गंभीर मुकदमा बनाकर गिरफ्तार करने की मांग की है। मांग पूरी न हाेने पर संयुक्त किसान माेर्चा ने 18 अक्तूबर को देशभर में रेल रोकने का निर्णय लिया है। 16 अक्तूबर को मकड़ौली टोल पर महापंचायत की जाएगी।

सांगवान खाप चालीस के प्रधान व दादरी से निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान ने कितलाना टोल धरने को संबोधित करते हुए कहा कि जब तक केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री पद पर बने रहेंगे, तब तक लखीमपुर खीरी तिकुनिया घटना की निष्पक्ष जांच नहीं हाे पाएगी। किसान सभा के कामरेड ओमप्रकाश ने आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार की गलत नीतियों ने देश में बिजली संकट पैदा कर दिया है और देश की बड़ी बिजली कम्पनियों को महंगी बिजली बेचने का अवसर दिया जा रहा है। मंहगाई ने जनता का बुरा हाल कर दिया है। किसानाें काे फसलाें के भाव नहीं मिल रहे हैं।

डीएपी खाद के लिए किसानाें काे भारी दिक्कतें उठानी पड़ रही है। खाद्य पदार्थों व अन्य वस्तुओं के बढ़ते भावों ने गरीबों की कमर तोड़ दी है। गुरुवार काे कितलाना टोल धरने के 294 वें दिन की अध्यक्षता सांगवान खाप से नरसिंह सांगवान डीपीई, श्योराण खाप से बिजेंद्र बेरला, किसान सभा से प्रताप सिंह सिंहमार, चौ. छोटूराम डाॅ. अम्बेडकर मंच से गंगाराम स्योराण, युवा कल्याण संगठन से राजू गोरीपुर, जाटू खाप से मास्टर राजसिंह, चौगामा खाप से मीरसिंह नीमड़ीवाली, रिटायर्ड कर्मचारी संघ से दिलबाग ढुल व महिला मोर्चा से चंद्रकला व विद्या डोहकी ने संयुक्त रूप से की। मंच का संचालन किसान सभा के कामरेड ओमप्रकाश ने किया।

इस अवसर पर मास्टर ताराचंद चरखी, सूरजभान झोजू, बलबीर सिंह बजाड़, सुखदेव पालवास, सूबेदार सतबीर सिंह, समुद्र सिंह धायल, परमजीत फतेहगढ़, राजेन्द्र जांगड़ा, रामानंद धानक, जयप्रकाश प्रजापत, सुलतान खान, शमशेर सांगवान, राजविरेन्द्र कालूवाला, बिजेंद्र चरखी व चंद्रसिंह बड़ा पैंतावास शामिल थे।

खबरें और भी हैं...