पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Bhiwani
  • Pressing Of New Drinking Water Line Started In Patel Nagar And Old Housing Board Colony, DI Pipe Will Be Replaced By 25 Years Old Cement plastic

काम शुरू:पटेल नगर व पुराना हाउसिंग बाेर्ड काॅलाेनी में नई पेयजल लाइन दबाने का काम शुरू, 25 साल पुरानी सीमेंट-प्लास्टिक की जगह डलेगी डीआई पाइप

भिवानी5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुराना हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में नई पेयजल लाइन डालने के लिए सड़क की खुदाई करती जेसीबी। - Dainik Bhaskar
पुराना हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में नई पेयजल लाइन डालने के लिए सड़क की खुदाई करती जेसीबी।
  • दोनों कॉलोनियों की चार किलोमीटर लंबी 4 इंची पाइप लाइन को 12 इंची मेन लाइन से जोड़ने की बाद होगा पेयजल समस्या का स्थायी समाधान

पटेल नगर व पुराना हाउसिंग बाेर्ड काॅलाेनी में अब लाेगाें काे दूषित पेयजल आपूर्ति का सामना नहीं करना पड़ेगा। अमरुत योजना के तहत पटेल नगर व पुराना हाउसिंग बाेर्ड काॅलाेनी में नई पेयजल लाइन दबाने का कार्य शुरू हाे गया है। दाेनाें काॅलाेनियाें में लगभग चार किलोमीटर लंबी पाइप लाइन डाली जा रही है। इसके अलावा बैंक काॅलाेनी में भी योजना के तहत लाइनें डाली जाएगी, जिनका कार्य भी 14 सितंबर के बाद शुरू हाे जाएगा।

पटेल नगर व पुराना हाउसिंग बाेर्ड काॅलाेनी में लगभग 25 साल पुरानी सीमेंट व प्लास्टिक की पेयजल लाइन दबी है, जाे अब जगह जगह से क्षतिग्रस्त हाे चुकी है। इसके कारण इन क्षेत्राें में समय समय पर घराें में दूषित पानी पहुंच रहा है। जनस्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी एक लीकेज काे ठीक करते है दूसरी शुरू हाे जाती है। इसके कारण विभाग के कर्मचारी भी परेशान है, लेकिन अब अमरुत योजना के तहत दाेनाें काॅलाेनियाें में नई डीआई पाइप लाइन की पेयजल लाइन डाली जा रही है। इससे लगभग 10 हजार की आबादी क्षेत्र में दूषित पेयजल आपूर्ति की समस्या का स्थायी समाधान हाे जाएगा।

जानिए... कंपनी की तरफ से किए जाएंगे कनेक्शन
पटेल नगर व पुराना हाउसिंग बाेर्ड में नई लाइन दबाने के बाद खुद कंपनी द्वारा घराें में पेयजल कनेक्शन किए जाएंगे। गली में दबाई गई पाइप लाइन से घराें में जाने वाली पाइप लाइन का खर्च भी कंपनी की तरफ से वहन किया जाएगा। सरकार के आदेश पर कंपनी की तरफ से ही कनेक्शन किए जाएंगे। क्याेंकि नागरिक जब खुद कनेक्शन करते है या करवाते है ताे प्लास्टिक पाइप लाइन पर फ्लूड का प्रयोग नहीं किया जाता है और ओवर साइज पाइप के कारण भी लीकेज की दिक्कत बन जाती है। इससे मेन पाइप लाइन में दूषित पानी जाने की आशंका पैदा हाे जाती है। इसलिए कंपनी की तरफ से कनेक्शन किए जाएंगे ताकि एेसी समस्या न बने।

दाे से साढ़े तीन फुट की गहराई में दबाई जा रही है लाइन
कंपनी संचालक सुमित खेमका ने बताया कि दाेनाें काॅलाेनियाें में पाइप लाइन दबाने का कार्य चल रहा है। पांच दिन के अंदर पाइप लाइन दबा दी जाएगी और कनेक्शन कर दिए जाएंगे। इसके अलावा बैंक काॅलाेनी की कुछ गलियाें में भी पाइप लाइन दबाई जाएगी। दाेनाें काॅलाेनियाें में पेयजल समस्या का स्थायी समाधान हाेगा। नियमाें के अनुसार दाे से साढ़े तीन फुट की गहराई में पाइप लाइन दबाई जा रही है।

लो प्रेशर की समस्या भी होगी खत्म, सीधे तीसरी मंजिल तक पहुंचेगा पानी
दाेनाें काॅलाेनियाें में चार इंची पेयजल लाइन लाइन डाली जा रही है। जिसे 12 इंची मेन पाइप लाइन से जाेड़ा जाएगा। जिससे दाेनाें काॅलाेनियाें में पेयजल की समस्या के स्थाई समाधान के अलावा लाे प्रेशर की समस्या का भी समाधान हाेगा। साथ ही मकान की पहली, दूसरी व तीसरी मंजिल पर पानी चढ़ाने के लिए भी माेटर लगाने की जरूरत नहीं हाेगी। क्याेंकि पाइप लाइन में पानी का प्रेशर इतना हाेगा कि मकान की तीसरी मंजिल पर भी पानी बिना माेटर की सहायता से पहुंचेगा।

खबरें और भी हैं...