राजेश बोले:सीएम की वादा खिलाफी के कारण बर्खास्त पीटीआई दयनीय स्थिति में पहुंचे

भिवानी14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 9 जनवरी के शिक्षा मंत्री आवास के घेराव को लेकर बर्खास्त पीटीआई ने कसी कमर

बहाली की आस में लंबे समय से संघर्षरत बर्खास्त पीटीआई की आर्थिक हालत प्रदेश के मुखिया की वादा खिलाफी के कारण दयनीय स्थिति में पहुंच चुकी है। इसके कारण प्रदेश के 1983 परिवार भूखा मरने की कगार पर पहुंच चुके हैं, लेकिन फिर भी प्रदेश सरकार को इस बात से कोई सरोकार नहीं है। यह बात लघु सचिवालय गेट के धरने पर बैठे बर्खास्त पीटीआई को संबोधित करते हुए हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघ के राज्य संयोजक राजेश ढांडा ने कही। बहाली की मांग को लेकर बर्खास्त पीटीआई का धरना शुक्रवार को 571 वें दिन भी जारी रहा। इस दौरान बर्खास्त पीटीआई ने कहा कि 9 जनवरी को यमुनानगर में होने वाले शिक्षा मंत्री आवास के घेराव को लेकर सभी तैयारियां कर ली है।

शिक्षा मंत्री आवास के घेराव को लेकर शुक्रवार को धरना स्थल पर सर्व कर्मचारी संघ, हसला, हेमसा, हजरस, आरसीएसएस, हरियाणा प्राइमरी टीचर्स एसोसिएशन, हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ, हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघ सहित विभिन्न कर्मचारी संगठनों की मीटिंग हुई। राजेश ढांडा ने कहा कि आर्थिक तंगी के चलते बर्खास्त पीटीआई के घरों में खाने के लाले पड़े हुए हैं, जिससे वे अपने परिवार का भरण-पोषण नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि जल्द ही उनकी बहाली नहीं की गई तो वे प्रदेश
स्तर पर बड़ा आंदोलन करने को मजबूर होंगे।
शुक्रवार को क्रमिक अनशन पर सरिता पीटीआई, नीतू रानी, मुन्नी देवी, कृष्ण कुमार रहे। इस अवसर पर पूर्व खंड शिक्षा अधिकारी कर्ण सिंह श्योरण, प्राचार्य सतबीर सिंह, सूरजभान जटासरा, सत्यवान कोच सहित अनेक पीटीआई मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...