पौष में व्रत तिथियां‎ अधिक:9, 11 और 12‎ जनवरी को बन रहा है सर्वार्थ सिद्धि व अमृत सिद्धि योग‎

भिवानी14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस बार पौष में व्रत तिथियां‎ अधिक, संताें‎ की जयंती और कई शुभ संयाेग बन रहे‎

नए साल के पहले महीने में‎‎ तीज-त्योहारों का सिलसिला शुरू‎‎ होने जा रहा है। खास बात यह है कि‎ इस महीने (पौष) में व्रत तिथियां‎ अधिक है, वहीं लोहड़ी,‎ पोंगल और‎ मकर संक्रांति जैसे बड़े पर्व भी है।‎‎ 31 जनवरी तक एकाध दिन‎ छोड़कर‎ कोई न कोई शुभ तिथि या‎ कोई त्योहार आने वाला है।‎ हालांकि‎ 14 जनवरी तक खरमास रहेगा, लेकिन तब‎ तक विवाह आदि‎ मांगलिक कार्य नहीं होंगे, परंतु‎‎ पूजा-कथा और पर्व मनाए जाएंगे।‎ ‎‎इस महीने में गुरु व संताें के जन्मदिवस‎ भी आ रहे हैं। 9 जनवरी को गुरु‎ गोबिंद सिंह का प्रकाशोत्सव, 12 को‎‎ स्वामी विवेकानंद व महर्षि महेश‎‎ योगी जयंती,‎‎ 24 काे स्वामी रामानंदाचार्य व 26‎‎ काे भीष्म पितामह जयंती और 31‎‎ जनवरी को‎ श्राद्ध अमावस्या है।‎
तिथि अनुसार शुभ याेग

तीज-त्योहारों के‎ अलावा 9, 11 और‎ 12‎ जनवरी को सर्वार्थ सिद्धि व‎ अमृत सिद्धि योग रहेंगे।‎ इसके बाद‎ 23, 26 व 27 जनवरी को भी‎ सर्वार्थ‎ सिद्धि योग बनेगा। 17‎ व 18‎ जनवरी को पुष्य‎ नक्षत्र योग रहेगा।‎‎ ‎
लोहड़ी, पोंगल, मकर संक्रांति इसी माह‎ : पंडित कृष्ण कुमार शर्मा नावां के अनुसार शाकुंभरी अष्टमी 10 जनवरी‎ को है। 13 जनवरी को पुत्रदा एकादशी पर श्रद्धालु पितरों के निमित्त‎ व्रत रखेंगे। घरों व मंदिरों में भगवान विष्णु की पूजा की जाएगी। इसी‎ दिन लोहड़ी मनाई जाएगी। 14‎ जनवरी को पोंगल और मकर संक्रांति मनेगी। शाकुंभरी पूर्णिमा 17 को है।‎
इसे स्नान-दान पूर्णिमा भी कहते हैं। 21 जनवरी को संकष्टी गणेश‎ चतुर्थी पर लोग व्रत रखकर भगवान गणेश की उपासना करेंगे।‎ षट्तिला एकादशी 28 को मनाई जाएगी। इस दिन लोग विष्णु और‎ गणेश की पूजा कर तिल्ली का भोग लगाएंगे। 29 जनवरी को तिल‎ द्वादशी पूजन होगा। शिव चतुर्दशी 30 को व 31 जनवरी को श्राद्ध‎ अमावस्या पर लोग पितरों के निमित्त तर्पण करेंगे।‎

खबरें और भी हैं...