पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दिल्ली कूच जारी:100 ट्रॉलियों में राशन लेकर 700 ट्रैक्टरों पर हजारों किसान दिल्ली रवाना, टिकरी बॉर्डर पर लगाया डेरा

मुंढाल3 महीने पहलेलेखक: भूपेंद्र सिहाग ​​​​​​​
  • कॉपी लिंक

नए कृषि कानूनों के विरोध में जिले के किसानों का दिल्ली कूच लगातार जारी है। शुक्रवार को भी जिले से 100 ट्रॉलियों में राशन सहित 700 ट्रैक्टरों में सवार हजारों किसानों का काफिला तीन रास्तों से होता हुए दिल्ली टिकरी बॉर्डर के लिए रवाना हुआ। इतना ही नहीं दिल्ली टिकरी बॉर्डर के पकौड़ा चौक पर जिले के किसानों ने अपना डेरा भी जमा दिया है। किसान संगठन व खापों ने नई रणनीति तैयार की है कि दिल्ली के चौतरफा बाॅर्डरों पर आंदोलन को संभालने के लिए जिले से 30 हजार किसान हर समय तैनात रहेंगे।

रणनीति अनुसार ग्रामीण कमेटियां हर 48 घंटे बाद इतने ही किसान दिल्ली भेजेगी, जिससेे बॉर्डरों पर तैनात किसान खेत व परिवार संभालने के लिए घर वापसी करेंगे। यह भी फैसला लिया है कि जब तक सरकार नए कृषि कानूनों को वापस लेकर एमएसपी पर कानून नहीं बनाती तब तक आंदोलन चाहे किसी भी मोड़ पर जाए, जिले के किसान अब घर वापसी नहीं करेंगे। उधर पंजाब, सिरसा, फतेहाबाद व हिसार से मुंढाल होते हुए किसानों का दिल्ली कूच फिर जोर पकड़ने लगा है।

48 घंटे में मुंढाल चौक से निकले 25 हजार ट्रैक्टर

26 जनवरी को आंदोलन की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद किसानों की आंदोलन से घर वापसी पर पूर्ण विराम लग गया है। दो दिन में मुंढाल चौक से होते हुए पंजाब, सिरसा, फतेहाबाद व हिसार की ओर से आए करीब 25 हजार ट्रैक्टर दिल्ली की ओर निकले। शनिवार को नेशनल हाईवे 9 की डबल लाइन पर हर 10 से 15 मिनट बाद ट्रैक्टर-ट्रॉलियों की लंबी कतारें दिखने लगी हैं।

नेशनल हाईवे पर लंगरों के चूल्हों पर फिर चढ़े तवे

मुंढाल के नेशनल हाईवे 9 पर दो माह से किसानों के लिए चल रहे लंगरों के चूल्हे 26 जनवरी की घटना के बाद दो दिन ठंडे पड़े रहे। मगर गुरुवार को राकेश टिकैत की भावुकता के बाद आंदोलन ने एकदम से जोर पकड़ा और फिर से किसानों का रूख होने से लंगरों के चूल्हों पर तवे चढ़ गए हैं। दो दिन में मुंढाल लंगर पर 22 हजार किसानों ने लंगर छका है। लंगर में खाना बना रहे अशोक हलवाई, सिल्लू हलवाई, सरोज, पिंकी व उषा बताती हैं कि पीछे से किसानों की तादात इतनी आ रही हैं कि वे 18 घंटे से बिना शिफ्ट बदले खाना बना रहे हैं।

रोज 100 ट्रॉलियों में भेजेंगे राशन

भारतीय किसान यूनियन के जिला प्रधान राकेश आर्य ने बताया कि किसान संगठनों व खापों ने जिले में गांव स्तर पर कमेटियों का गठन कर दिया गया है। ये कमेटियां अपने स्तर पर जिले से 100 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में ताजा सब्जियां, दूध, दही, लस्सी व खान पान की जरूरत का अन्य सामान के साथ प्रति दिन सुबह छह बजे रवानगी करेगी। जो राशन बांटने के बाद शाम को ही वापसी आएंगे।

इंटरनेट बंद होने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित

कोराना काल के चलते जिले भर के सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों में नर्सरी से आठवीं कक्षा की पढ़ाई ऑनलाइन करवाई जा रही है। मगर किसान आंदोलन के चलते सरकार ने मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को शुक्रवार शाम छह बजे से बंद होने के कारण करीब एक लाख से भी अधिक बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है। मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद रखने की अवधि अब रविवार शाम पांच बजे तक बढ़ा दी है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें