डेंगू का डंक:जिले में मिले दो नए डेंगू केस, मरीजाें की संख्या 200 के पार,141 टीमें डोर-टू-डोर कर रहीं सर्वे

भिवानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 188 मरीज हो चुके ठीक, विभाग की फॉगिंग की प्रक्रिया सही नहीं होने बढ़ रहे डेंगू मरीज

जिले में डेंगू मरीजाें की संख्या 200 के आंकड़े काे पार कर चुकी है। शुक्रवार काे भी दाे नए डेंगू मरीज मिले। डेंगू काे लेकर जिले में अभी तक राहत की बात यह है कि 188 मरीज ठीक हो चुके हैं। डेंगू मरीजाें की पहचान के लिए स्वास्थ्य विभाग लगातार डाेर-टू-डाेर सर्वे अभियान चलाए हुए है, लेकिन फॉगिंग की प्रक्रिया सही नहीं होने डेंगू के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं।

शुक्रवार काे जिले में डेंगू मरीजाें की संख्या 203 पर पहुंच गई है। विभाग की तरफ से अभी तक 1598 लाेगाें के डेंगू से संबंधित सैंपल लिए जा चुके हैं। जिले से बाहर से भी विभाग के पास जिला निवासियाें की डेंगू की ऑनलाइन डेंगू रिपाेर्ट पहुंच रही है। गुरुवार काे जिले में 4 डेंगू मरीज मिले थे।

जानिए...क्या कहना है जिम्मेदार अधिकारियाें का

  • नगरपरिषद के ईओ संजय यादव ने बताया कि शहर में वार्ड स्तर पर फाॅगिंग का कार्य चल रहा है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की तरफ से डेंगू प्रभावित क्षेत्र की सूचना मिलती है ताे टीम उन क्षेत्राें में पहुंचकर विशेषरूप से फाॅगिंग करवा रही है।
  • सीएमओ डाॅ. रघुबीर सिंह शांडिल्य ने बताया कि विभाग की 141 टीमें डाेर-टू-डाेर सर्वे अभियान चलाएं हुए है। मरीजाें के लिए सिविल अस्पताल में अाइसाेलेशन सेंटर बनाया गया है, जिसमें मरीजाें काे फ्री सैंपलिंग व उपचार की सुविधा दी जा रही है। उन्हाेंने कहा नागरिकाें का सहयाेग कम मिल रहा है।
  • उधर कांग्रेस नेत्री किरण चौधरी ने डेंगू के मरीज बढ़ने का कारण प्रशासन की निष्क्रियता बताई। उन्होंने कहा कि प्रशासन ने अभी तक पूरे इलाके में फॉगिंग नहीं करवाई है। सिर्फ उस मकान में फागिंग करवाई जाती है, जहां पर डेंगू का पेशेंट मिलता है। उन्होंने कहा कि प्रशासन को चाहिए कि वह कम से कम एक बार तो पूरे जिले में फाॅगिंग करवाएं। किरण चौधरी ने कहा कि डेंगू के मामले में प्रशासन ही नहीं सरकार की नाकामी भी सामने आ रही है। ऐसा पहली बार हुआ कि फॉगिंग केवल उसी मकान में की जाती है जहां पर पेशेंट मिलता है, जबकि पहले जो फॉगिंग करवाई जाती थी वह पूरे इलाके में की जाती थी। उन्होंने उन्होंने कहा कि प्रशासन का काम सिर्फ नोटिस देना ही है फागिंग करना नहीं।

जानिए... जिले में डेंगू बढ़ने का क्या कारण

इसमें पूरे जिले में फाॅगिंग न करवाकर प्रशासन उसी मकान में फागिंग करवाता है जहां पर पेशेंट मिल रहा है। उसी मकान में फॉगिंग करवाए जाने पर मच्छर एक बार और कर दूसरे मकान में पहुंच जाता है और फिर फाॅगिंग के लगभग 2 घंटे बाद फिर उसी मकान में पहुंच जाता है। प्रशासन को चाहिए की वह पूरे एरिया में एक बार अवश्य फाॅगिंग करवाएं, ताकि डेंगू का प्रभाव कम किया जा सके।

खबरें और भी हैं...