पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वैक्सीनेशन से पहले 6 केंद्रों पर मॉक ड्रील:150 लोगों को लगाई को-वैक्सीन, मॉक ड्रील में शामिल हुए उपायुक्त, चक्कर आते ही एईएफआई रूम में किया भर्ती

चरखी दादरी17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वैक्सीनेशन रूम में लगा इंजेक्शन - Dainik Bhaskar
वैक्सीनेशन रूम में लगा इंजेक्शन
  • सबसे पहले स्कैनिंग फिर वेटिंग एरिया में प्रवेश, इसके बाद वैक्सीन दी, आधे घंटे तक ऑब्जर्वेशन में रखा

कोरोना वायरस को उखाड़ फेंकने के लिए जिले में आई वैक्सीन का पहला इंजेक्शन डीसी राजेश जोगपाल को लगाया गया। गुरुवार को डीसी सिविल अस्पताल पहुंचे जहां तैनात कर्मचारी ने उनका नाम पता पूछकर उनका टेंपरेचर जांचते हुए हाथ सैनिटाइजर करवाए। इसके बाद बूथ के अंदर एंट्री करके उन्होंने अपना रजिस्ट्रेशन नंबर मोबाइल से दिखाकर वेरिफाई करवाया। इसके बाद उन्हें अंदर वैक्सीन रूम में भेजकर इंजेक्शन लगाया।

जहां वैक्सीन के मात्र एक ही मिनट में उनकी तबीयत बिगड़ गई और उन्हें तुरंत चिकित्सकों ने एईएफआई रूम में शिफ्ट कर उपचार किया गया। हालांकि कुछ ही देर में वह सामान्य हो गए और उन्हें घर भेज दिया गया। यह सब जानकर आपके मन में यहीं सवाल उठ रहा होगा कि अभी तक कोरोना वैक्सीन तो आई ही नहीं है। आप यह ठीक सोच रहे हैं। क्योंकि कोरोना वैक्सीन जल्द ही मिलने वाली है और इसके टीकाकरण को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने पूरी तैयारियां की हुई हैं।

इन्हीं तैयारियों को लेकर गुरुवार को ड्राई रन (मॉक ड्रिल) किया गया था। जिसमें स्वास्थ्य विभाग के प्रबंध जांचने के लिए खुद डीसी राजेश जोगपाल परखने पहुंचे थे। स्वास्थ्य विभाग ने वैक्सीन लगाने के लिए 187 वैक्सीनेटरों को ट्रेनिंग दी हुई है। पहले तो विभाग ने सिविल अस्पताल, बाढड़ा पीएचसी और बलकरा पीएचसी में यह ड्राई रन का आयोजन तय किया था।

मगर ज्यादा वैक्सीनेटरों काे प्रक्रिया में शामिल करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने तुरंत 3 बूथ और बढ़ा दिए गए। ऐसे में ड्राई रन में 3 शहर के और 3 ग्रामीण क्षेत्राें के बूथ बनाए। इनमें शहर के अंदर सिविल अस्पताल, मातृ शिशु अस्पताल व जयहिंद अस्पताल को शामिल किया गया। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में बौंद कलां सीएचसी, बाढड़ा पीएचसी और बलकरा पीएचसी शामिल किए गए।

टेंपरेचर जांच के साथ किया सैनिटाइजेशन

वेक्सिनेशन रूम में जाने से पहले तापमान जांचता स्वास्थ्य कर्मचारी। वैक्सीन लगवाने के लिए बूथ पर पहुंचने वालों का सबसे पहले टेंपरेचर जांचा गया। इसके बाद हाथ सैनिटाइज करवाए गए और उनके नाम से एंट्री डालकर बूथ के अंदर प्रवेश करवाया।

एंट्री बूथ पर आधार नंबर देकर वेरिफिकेशन करवाया

स्वास्थ्य केंद्र में बूथ की एंट्री करने पर वहां मौजूद कर्मचारी को अपना आधार कार्ड का नंबर बताया। इसके बाद उस नंबर को साइट पर डालकर उक्त हेल्थ वर्कर का पूरा डाटा निकाल कर वेरिफाई किया गया।

वैक्सीनेशन रूम में लगा इंजेक्शन

वेरिफाई करने के बाद हेल्थ वर्कर को इंजेक्शन लगवाने के लिए वैक्सीनेशन रूम में भेजा गया। जहां महिला स्वास्थ्य कर्मी ने कोरोना वैक्सीन का इंजेक्शन लगाया। इसके बाद इंजेक्शन की सूई का निस्तारण कर दिया और सिरिंज को डस्टबिन में डाल दिया।

इंजेक्शन के बाद 30 मिनट वेटिंग रूम में बैठाया

वैक्सीन का इंजेक्शन लगाने के बाद सभी को वेटिंग रूम में भेजा गया। जहां वेटिंग रूम में सोशल डिस्टेंस बनाए रखने के लिए दूर दूर कुर्सियां डाली हुई थी। जहां इंजेक्शन लगवाने वाले सभी लोगों को बैठाया जा रहा था। वहीं उनकी देखरेख करने के लिए हेल्थ वर्कर भी मौजूद थे।

एईएफआई रूम में डीसी का उपचार करते डॉक्टर

कोरोना वैक्सीन का इंजेक्शन लगाने के बाद तबीयत बिगड़ने वालों के लिए एईएफआई रूम बनाया हुआ था। इंजेक्शन लगवाते ही चार लोगों को चक्कर आने की शिकायत आई थी। जिन्हें तुरंत एईएफआई रूम में भर्ती करवाया गया। जहां विशेषज्ञ डॉ.आरोह शर्मा ने उन्हें तुरंत ड्रीप लगाकर उपचार शुरू किया। जिससे वह 10 मिनट में ही वापस सामान्य हो गए।

वैक्सीन लगने के बाद हो सकती है हल्की तबीयत खराब

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.आशिष मान ने बताया कि वैक्सीन लगने के बाद चक्कर आना, जहां वैक्सीन लगेगी वहां पर सोजन आना, घबराहट होना, लाल रंग की छोटी छोटी फुंसी निकलना, ब्लड प्रेशर हाई व लो होना, हलका बुखार, उल्टी व दस्त लग सकते हैं। यह सब ऐसी सामान्य दिक्कतें हैं जिनकी वैक्सीन सभी बूथों पर रखी जाएंगी। जैसे ही वैक्सीन के बाद किसी की भी तबीयत बिगड़ती है उसे तुरंत एईएफआई रूम में ले जाकर उपचार दिया जाएगा।

कर्मियों ने बेहतर तरीके से निभाई जिम्मेदारी: पंवार

सीएमओ डॉ.सुदर्शन पंवार ने कहा कि वैक्सीन को लेकर जो भी इंतजाम किए हुए हैं उन्हें जांचने के लिए ड्राई रन किया गया था। हमने वैक्सीनेशन की पूरी प्रक्रिया को अपनाया। इस दौरान सभी वैक्सीनेटरों ने अपनी पूरी जिम्मेदारी के साथ कार्य को संभाला। जल्द ही वैक्सीन आने वाली है जिसको लेकर हमारे कर्मचारी पूरी तरह तैयार हैं।

सभी तैयारियां बेहतर: राजेश जोगपाल

जिला उपायुक्त राजेश जोगपाल ने कहा कि कोरोना वैक्सीन आने से पहले ही वैक्सीनेशन की पूरी तैयारियां स्वास्थ्य विभाग ने की हुई हैं। मैंने पूरी प्रक्रिया को गहनता से जांचा है। अब तो वैक्सीन आने का इंतजार है जिले में टीकाकरण की पूरी और बेहतर तैयारियां की हुई हैं।

6 प्वाइंटों पर 30 कर्मचारी तैनात

वैक्सीनेशन के लिए जिले में 6 प्वाइंट बनाए गए थे। इन सभी पर 5-5 कर्मचारी तैनात किए हुए थे। इन सभी प्वाइंटों के प्रवेश द्वार पर एक एक सिक्योरिटी गार्ड तैनात किया हुआ था। वहीं अन्य सभी जगहों पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी नियुक्त किए हुए थे।

सभी प्वाइंटों पर हर एक रूम में स्टॉफ नर्स व कंप्यूटर ऑपरेटर नियुक्त थे वहीं किसी की तबीयत बिगड़ने पर एईएफआई रूम में स्टॉफ नर्स व विशेषज्ञ चिकित्सक नियुक्त थे। जिन वैक्सीनेटरों की डयूटी लगाई हुई थी वह सभी समय पर पहुंचे और वैक्सीनेशन को जिम्मेदारी से निभाया।

कोरोना मरीजों को ठीक होने के 28 दिन बाद लग सकेगी को-वैक्सीन

सीएमओ डॉ.सुदर्शन पंवार ने बताया कि कोरोना संक्रमित मरीजों को यह वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी। कोरोना संक्रमित मरीज ठीक होने के 28 दिन बाद यह वैक्सीन उसे लगाई जा सकेगी। अगर कोई कोरोना संक्रमित स्वास्थ्य कर्मचारी है और उसे ठीक हुए 28 दिन से ऊपर हो चुके हैं उन्हें पहले ही फेज में यह इंजेक्शन लगाया जाएगा।

अन्य कोई पुलिस कर्मचारी या फ्रंट लाइन है वह भी 28 दिन पहले ठीक हुआ होगा उसे दूसरे फेज में वैक्सीन लगाई जाएगी। वैक्सीनेशन के लिए जो चार फेज बनाए गए हैं उसी आधार पर कोरोना संक्रमण से ठीक हुए लोगों को भी वैक्सीन लगाई जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser