जिले में डेंगू ने अर्धशतक किया पूरा:डेंगू के 4 नए मरीज मिले, आंकड़ा बढ़कर पहुंचा 54 पर, अब तक 800 को जारी किए जा चुके हैं नोटिस

चरखी दादरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर की गलियों में फॉगिंग करते कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
शहर की गलियों में फॉगिंग करते कर्मचारी।
  • निजी अस्पताल में दो व अल्ट्रासाउंड केंद्र में भी मिल चुका एक मरीज, शहर में तीन बार करवाई जा चुकी फोगिंग

जिले में लगातार डेंगू रन मशीन बनता जा रहा है। बुधवार शाम को 2 नए मरीजों के साथ डेंगू ने अर्धशतक पूरा कर लिया था। वहीं गुरुवार को 4 और नए डेंगू मरीज मिलने पर यह आंकड़ा बढ़कर 54 पर पहुंच गया है। सबसे खास बात तो यह है कि स्वास्थ्य विभाग लोगों को लार्वा खत्म करने के लिए जागरूक कर रहा है। लेकिन शहर में दो निजी अस्पताल और एक अल्ट्रासाउंड केंद्र के तीन सदस्य भी डेंगू संक्रमित मिले हैं। अल्ट्रासाउंड केंद्र पर तो मलेरिया लार्वा भी पाया गया है जिस कारण उन्हें नोटिस थमाया गया है। वहीं डेंगू की रफ्तार देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने भी फोगिंग और स्प्रे बढ़ा दी है।

शहर में मिल रहे ज्यादा मरीज

स्वास्थ्य विभाग अधिकारी ने बताया कि जिले में शहर के अंदर ज्यादा डेंगू मरीज मिल रहे हैं। अब तक 36 मरीज डेंगू के शहर और 18 मरीज डेंगू के ग्रामीण क्षेत्रों में मिल चुके हैं। इसका मुख्य कारण यह है कि शहर में पानी निकासी व्यवस्था ठप है और जलभराव के कारण लार्वा पनप रहा है।

डोर टू डोर की जा रही लार्वा की जांच

विभाग ने पूरे शहर में ही डोर टू डोर जाकर मलेरिया व डेंगू लार्वा की जांच की है। इस दौरान 800 मकानों में लार्वा मिला था और इन सभी को नोटिस जारी किए गए हैं। नोटिस के माध्यम से चेतावनी दी गई है कि अगर दोबारा जांच में लार्वा मिलता है तो उनको 200 रुपयों से लेकर 2 हजार रुपये तक जुर्माना लगाया जाएगा।

हर रोज 26 मशीनों से हो रही फोगिंग

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जिले में फोगिंग करने के लिए 26 नई मशीनें वितरित की गई हैं। इनमें 6 मशीनें नगर परिषद को दी गई हैं। 4 मशीनें सिविल अस्पताल के पास हैं। वहीं 16 मशीनें जिले की सभी सीएचसी व पीएचसी पर दी गई हैं। फोगिंग के लिए दवाइयां स्वास्थ्य विभाग की तरफ से उपलब्ध करवाई जा रही हैं। वहीं इसमें तेल का खर्चा शहर में नगर परिषद और गांव के लिए पंचायती विभाग उपलब्ध करवा रहा है। अब तक 117 गांव में फोगिंग हो चुकी है। वहीं पूरे शहर में तीन बार फोगिंग करवाई जा चुकी है।

सरकारी ब्लड बैंक से निशुल्क मिलेंगी प्लेटलेट्स

​​​​​​​डेंगू संक्रमित होने पर अक्सर मानव शरीर में ब्लड के अंदर की प्लेटलेट्स कम होने लग जाती हैं। यह सामान्य तौर पर शरीर के अंदर ढाई लाख से साढ़े 4 लाख के बीच होती हैं। मगर एक लाख से नीचे आने पर डेंगू की पुष्टि हो जाती है और मरीज को निगरानी में रखना शुरु कर दिया जाता है। ज्यादा कम होने पर सरकारी ब्लड बैंक से प्लेटलेट्स का बैग निशुल्क मिलता है। जबकि प्राइवेट ब्लड बैंक से एक बैग की सरकार ने निर्धारित 1100 रुपये रेट तय किया हुआ है।​​​​​​​

ये किए जा रहे प्रबंध : स्वास्थ्य विभाग की तरफ से डेंगू व मलेरिया पर अंकुश लगाने के लिए विभिन्न प्रयास किए जा रहे हैं। स्वास्थ्य निरीक्षक मुकेश कुमार ने बताया कि जहां भी डेंगू मरीज मिलते हैं उन्हें व परिजनों को मच्छरदानी वितरित की जा रही हैं। अब तक 87 तालाबों में गंबूजिया मछली डाली जा चुकी हैं। शहर व ग्रामीण क्षेत्रों में फोगिंग व स्प्रे करवाई जा रही हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा डोर टू डोर जाकर लार्वा जांच किया जा रहा है। जलभराव वाली जगहों पर काला तेल डाला जा रहा है।

बेहतर उपचार के लिए लैब व वार्ड स्थापित

स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू पर अंकुश लगाने व मरीजों को बेहतर उपचार देने के लिए सिविल अस्पताल के रूम नंबर 151 को डेंगू वार्ड बनाया हुआ है। जहां डेंगू संक्रमित मरीजों को भर्ती किया जाएगा। अब तक दो मरीजों को ही भर्ती किया गया है। इनमें से एक ठीक होकर डिस्चार्ज हो गया और दूसरे मरीज को परिजन रोहतक अस्पताल में ले गए। वहीं दूसरी तरफ रूम नंबर 25 में लैब भी स्थापित की गई है। जहां मलेरिया व डेंगू सेंपल जांच किए जा रहे हैं। अब तक लैब में कुल 236 डेंगू सेंपल जांचे गए हैं जिनमें 54 पॉजिटिव मिले हैं।

फोगिंग व स्प्रे बढ़ाई: भारद्वाज

जिला मलेरिया अधिकारी डॉ गौरव भारद्वाज ने कहा कि जिले में लगातार डेंगू मरीज बढ़ रहे हैं। अब तक शहर में 36 व गांव में 18 मरीज मिल चुके हैं। इन पर अंकुश लगाने के लिए फोगिंग व स्प्रे बढ़ाई गई है। 14 अक्टूबर तक कुल 54 डेंगू मरीज मिल चुके हैं।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...