पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

गुस्सा:भाकियू ने कृषि मंत्री का पुतला जला सरकार के प्रति रोष जताया

चरखी दादरी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रोज 10 गांव के किसानों की फसल बिना शेड्यूल खरीदने की मांग

भारतीय किसान यूनियन जिला ईकाई द्वारा किसान पंचायत का आयोजन किया गया। पंचायत की अध्यक्षता धरना प्रधान रणबीर ने की। जिसमें किसानों से संबंधित कई विषयों पर चर्चा की गई। भाकियू जिलाध्यक्ष जगबीर ने कहा कि जिले की अनाज मंडी में सरकार द्वारा बाजरा व नरमा की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद को लेकर काफी किसानों की शिकायतें आ रही थी।

जिले की सभी मंडियों में जिस प्रकार से सरकार की तरफ से गेट पास जारी किए जा रहे हैं जो प्रक्रिया बहुत ही धीमी गति व जटिल प्रक्रिया से कार्य कर रही है। क्योंकि जिले के अंतर्गत तकरीबन 32 हजार किसानों द्वारा बाजरे के लिए पंजीकरण करवाया गया है और अब तक 17 दिनों के अंदर करीब 3 हजार किसानों द्वारा ही बाजरे की फसल बिक्री की गई है। अगर फसल खरीद की प्रक्रिया इसी तरीके से चलते रही तो क्षेत्र के किसान 60 से 65 फीसदी तक अपनी फसल बेचने से वंचित रह जाएंगे।

इसलिए भाकियू की तरफ से मार्केट कमेटी सचिव सुरेश कुमार खोखर के माध्यम से कृषि मंत्री को ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें मांग की गई रोजाना कम से कम 8 से 10 गांव के किसानों की बाजरे की फसल खरीद के लिए बिना शेड्यूल के सीधे तौर पर बाजरा खरीदा जाए ताकि किसान अपनी फसल बेचकर आगामी रबी फसल की बिजाई के लिए आसानी से खाद बीज खरीद सके।

अगर सरकार द्वारा बाजरे की फसल की खरीद की प्रक्रिया में सुधार नहीं किया गया तो आगामी मंगलवार को भाकियू व अनाज मंडी आढ़तियों के साथ मिलकर मंडी गेट को ताला जड़ेंगे। भाकियू के पदाधिकारियों और मंडी आढ़तियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कृषि मंत्री जेपी दलाल को जिम्मेदार मानकर उनके पुतले का दहन किया गया। इस मौके पर भाकियू जिला महासचिव धर्मचंद, युवा मीडिया प्रभारी रविंद्र कुमार, जयवीर शर्मा, जिला प्रभारी यादवेंद्र डूडी, रणसिंह चाहार, सुनील कुमार, सोनू, विजय, अनिल, बलवंत, लक्की शर्मा, राजा आदि मौजूद रहे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें