डेंगू से बचाव की तैयारी:17 से बढ़कर 28 हुए डेंगू मरीज 10 गांवों में और 18 शहर में मिले

चरखी दादरी12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जलभराव वाली जगहों पर फॉगिंग करता कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
जलभराव वाली जगहों पर फॉगिंग करता कर्मचारी।
  • पॉश एमसी कॉलोनी एरिया में सबसे ज्यादा 6 मरीज मिले

स्वास्थ्य विभाग जिले में डेंगू के डंक से लोगों को नहीं बचा पा रहा है। क्योंकि इस बार शहर हो या ग्रामीण क्षेत्र सभी जगह बरसाती पानी की चपेट में हैं। जगह जगह जलभराव होने के कारण मलेरिया लारवा पनप रहा है और मच्छर बनकर लोगों को डेंगू व मलेरिया संक्रमित कर रहा है।

वहीं इस बार बरसात से शहर में ज्यादा बुरे हालात हैं। इसलिए अब तक मिले 28 मरीजों में 18 शहर और 10 गांव के हैं। जिले में एक सप्ताह के अंदर ही डेंगू मरीजों की संख्या 17 से बढ़कर 28 पर पहुंच गई है। यानि काफी ज्यादा तेजी से डेंगू अपने पांव पसारता जा रहा है।

शहर में एमसी कॉलोनी को पॉश कॉलोनी कहां जाता है। इसी कॉलोनी में जिले में ज्यादातर वीआईपी लोगों के मकान भी हैं। लेकिन इस बार बारिश से एमसी कॉलोनी पूरी तरह जलभराव की चपेट में आई हुई है। इस कारण यहां पर मच्छरों की संख्या काफी ज्यादा बढ़ गई है। इसी जलभराव के कारण यहां पर जिले में सबसे ज्यादा 6 मरीज मिले हैं। इस ऐसे में स्वास्थ्य विभाग भी लगातार एमसी कॉलोनी में फोगिंग व दवा का छिड़काव करवा रहा है।

शहर में 729 लोगों को जारी किए नोटिस

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जिले में डेंगू के मरीज ज्यादातर शहर में ही मिल रहे हैं। शहर में डोर टू डोर जाकर स्वास्थ्य विभाग कर्मचारी मलेरिया लारवा की जांच कर रहे हैं। शहर में करीब 729 मकानों में मलेरिया लारवा पाया गया है। जिन्हें नोटिस थमाते हुए स्वास्थ्य विभाग ने चेतावनी दी है कि दोबारा लार्वा मिलने पर 200 से लेकर 2 हजार रुपये तक का जुर्माना लगाया जाएगा।

एमसी कॉलोनी के लिए बनेगी विशेष टीम

जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. गौरव भारद्वाज ने कहा कि जलभराव के कारण शहर में सबसे ज्यादा डेंगू के मरीज मिल रहे हैं। शहर में भी एमसी कॉलोनी संक्रमण में सबसे ऊपर है जिसमें 6 मरीज मिल चुके हैं। एमसी कॉलोनी के दो दिन में विशेष टीम गठित की जाएगी। जो डोर टू डोर जाकर लार्वा जांच, फोगिंग, दवा छिड़काव और बीमार लोगों की स्लाइड बनाएगी। शहर में जहां जहां जलभराव है वहां पर काला तेल डाला जा रहा है और गंबूजिया मछली डाली जा रही हैं।

खबरें और भी हैं...