दो पक्षों ने एक-दूसरे पर कराया केस दर्ज:भैरवी में दो पक्षों में विवाद के बाद फायरिंग, एक युवक के पैर में लगी गोली, गंभीर हालत में रोहतक रेफर किया

चरखी दादरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 8 नामजद, 3 नवंबर को गाली देने के बाद बढ़ा था झगड़ा

बुधवार रात गांव चरखी नजदीक दो पक्षों में विवाद हो गया। इस दौरान दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर फायरिंग करने की शिकायत पुलिस को दी है। वहीं एक पक्ष के युवक को पैर में गोली लगी है जिसे भिवानी में प्राथमिक उपचार के बाद रोहतक रेफर कर दिया गया है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर दोनों पक्षों के 8 नामजद सहित अन्यों पर केस दर्ज कर कार्रवाई शुरु कर दी है।

गाली गलौज का विरोध करने पर मारी गोली : रोहतक पीजीआई में गोली लगने से घायल उपचाराधीन गांव मानकावास निवासी अजेंद्र सिंह ने बताया कि वह 3 नवंबर को अपने दोस्त चरखी निवासी भवानी, मस्तू व अमित के साथ कार में सवार होकर बाजार में खरीददारी करने गया था। इसी दौरान चरखी निवासी धर्मेंद्र का उसके दोस्त भवानी के पास फोन आया और उसे गाली देने लगा। यह देख अजेंद्र ने फोन लेकर धर्मेंद्र को समझाने का प्रयास किया तो उसे भी गाली गलौज देनी शुरू कर दी।

इसके बाद कहा कि तुम भैरवी नजदीक मेरे ऑफिस पर आ जाओ यहीं बैठकर विवाद को दूर करेंगे। इसके बाद वह भैरवी पहुंचे और धर्मेंद्र के पास फोन किया तो वह अपने साथ 6 से 7 युवकों को लाठी डंडों सहित लेकर आया। यह देखकर वह घबरा गए और अपनी कार में सवार होकर चरखी की तरफ भाग निकले। लेकिन धर्मेंद्र ने अपनी स्कोर्पियो पीछे लगा दी। पीछे से धर्मेंद्र व उसके साथ कुलदीप व कानो वाला ने गोलियां चलानी शुरू कर दी। इस दौरान एक गोली अजेंद्र के पैर में लगी और वह अंधेरे में खेतों में ही छुप गया। वहीं पीछे से मौका पाकर उसके दोस्त अमित, भवानी, मस्तू कार लेकर चरखी की तरफ भाग गए।

आरोप, चरखी निवासी पहलवान ने फोन पर धमकी देकर मांगे थे 5 लाख रुपये

दूसरे पक्ष से गांव चरखी निवासी धर्मेंद्र ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह अपने दोस्त कुलदीप के साथ 3 नवंबर को भैरवी आया हुआ था। इसी दौरान उसके पास चरखी निवासी हंसा पहलवान का फोन आया। जिसने कहा कि तू बुक्की का काम करता है और मुझे पांच लिख रूपये दे या फिर 20 फीसदी हिस्सा डाल ले। धर्मेंद्र ने कहा कि मैं बुक्की का काम नहीं करता तो उसने जान से मारने की धमकी दी। इसके कुछ देर बाद ही चरखी निवासी भवानी का उसके पास फोन आया और उसने कहा तूने भाई का काम क्यों नहीं किया हम तूझे जान से मार देंगे। इसके बाद रात करीब सवा 11 बजे धर्मेंद्र अपने दोस्त कुलदीप के साथ स्कोर्पियो गाड़ी में सवार होकर चरखी घर जा रहे थे।

इसी दौरान रास्ते में एक इनोवा गाड़ी खड़ी थी। जिसके पास चरखी निवासी भवानी, मस्तू, कालिया व मानकावास निवासी अजेंद्र खड़े हुए थे। उन्होंने गाड़ी रोकी तो उन्होंने उसे मारने के लिए फायरिंग शुरु कर दी। लेकिन वह गाड़ी दूसरी तरफ भगाकर वहां से बचकर भाग निकलने में कामयाब हो गए। धर्मेंद्र ने कहा कि उन पर हंसा पहलवान के कहने पर जान से मारने का प्रयास किया गया था। धर्मेंद्र की शिकायत पर हंसा पहलवान, भवानी, मस्तू, कालिया व मानकावास निवासी अजेंद्र पर केस दर्ज कर लिया है।

खबरें और भी हैं...