प्रदर्शनी की धूम:सांस्कृतिक कार्यक्रम में चंडीगढ़ के कलाकारों ने फाग नृत्य में जमाया रंग

चरखी दादरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गीता महोत्सव के दौरान सांस्कृतिक प्रस्तुति देते बच्चे। - Dainik Bhaskar
गीता महोत्सव के दौरान सांस्कृतिक प्रस्तुति देते बच्चे।

अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के दूसरे दिन भी सोमवार को सांस्कृतिक कार्यक्रम, प्रदर्शनी और ज्ञानगंगा रूपी वचनों की धूम रही। समारोह में कुश्ती खिलाड़ी और महिला एवं बाल विकास निगम की चेयरपर्सन बबीता फौगाट ने मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की। मां शारदे व श्रीमद्भागवत गीता के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर बबीता फौगाट ने गीता महोत्सव के दूसरे दिन के कार्यक्रमों का शुभारंभ किया। राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय परिसर में मनाए जा रहे तीन दिवसीय इस कार्यक्रम के दूसरे दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शुरूआत अरावली स्कूल कादमा के विद्यार्थियों ने श्री गणेश वंदना से की। इसके बाद चंडीगढ़ से आए कलाकार कामिल व उनकी टीम ने हरियाणवी फाग नृत्य की मनोहारी प्रस्तुति दी। जेबीएस स्कूल मकड़ाना के बच्चों ने श्री कृष्ण लीला व लोक संस्कृति पर आधारित कार्यक्रम पेश किया। कलाकार राजकपूर और पवन ने महाभारत पर आधारित लोकगीत सुनाए। चेयरमैन बबीता फौगाट ने कहा कि गीता का रोजाना एक श्लोक सिखाकर हमें अपने बच्चों को संस्कारवान बनाना चाहिए। सेमिनार में जनता काॅलेज के प्राचार्य प्रो. यशवीर सिंह ने कहा कि गीता भगवान का स्वयं गाया हुआ गीत है। ईसा से तीन हजार 67 साल पहले महाभारत काल माना जाता है। गीता के ज्ञान की ऐतिहासिक पृष्ठïभूमि पर उन्होंने प्रकाश डाला। उपायुक्त प्रदीप गोदारा की धर्मपत्नी वंदना गोदारा ने भी लोक कलाकारों व स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का उत्साहवर्धन किया। अतिरिक्त उपायुक्त डाॅ. मुनीष नागपाल व नगराधीश अमित मान ने अतिथिगण का स्वागत किया और उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट किए।

आज होगा महोत्सव का समापन

गीता महोत्सव के तीसरे व अंतिम दिन समारोह में दादरी के विधायक सोमबीर सांगवान मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता उपायुक्त प्रदीप गोदारा करेंगे। समारोह में दोपहर 12 बजे कन्या गुरुकुल पचगांव की छात्राएं अष्टादश श्लोकी गीता का मंत्रोच्चारण करेंगी। इसके बाद दोपहर एक बजे श्रीमदभागवत गीता की नगर शोभायात्रा निकाली जाएगी। जिसमें गीता जी की पालकी के साथ स्कूली बच्चों व विभिन्न विभागों की झांकियां शामिल होंगी। यह शोभायात्रा राकवमावि से आरंभ होकर लाला लाजपतराय चौक, पुराना बसस्टैंड, रोहतक चौक सरदार झाड़ू सिंह चौक से होते हुए वापस स्कूल प्रांगण में समाप्त होगी। दोपहर सवा दो बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरूआत होगी और पारितोषिक वितरण किया जाएगा।

गीता महोत्सव के दौरान सांस्कृतिक प्रस्तुति देते बच्चे।

खबरें और भी हैं...