पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सांसद निवास का घेराव:विधायक नैना और सांसद धर्मबीर के आवास को घेरा, टोल पर नारेबाजी, अनहोनी को आशंका के चलते बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात

चरखी दादरी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जजपा विधायक नैना सिंह के आवास का घेराव कर कृषि कानूनों की प्रतियां जलाते हुए किसान। - Dainik Bhaskar
जजपा विधायक नैना सिंह के आवास का घेराव कर कृषि कानूनों की प्रतियां जलाते हुए किसान।
  • किसानों ने टोहाना में गिरफ्तार किसानों को रिहा करो के लगाए नारे
  • प्रदर्शन और घेराव में टूटे नियम- किसान भाइयों आंदोलन और प्रदर्शन तो ठीक है परंतु सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ जान जोखिम में डालना गलत

शनिवार को जिले की सभी खापों सहित विभिन्न संगठनों से जुड़े लोगों ने तीनों कृषि कानूनों काे रद्द करवाने के लिए विधायक व सांसद निवास का घेराव किया। मगर लोगों की भीड़ देख लग रहा था कि कोरोना संक्रमण की जो रफ्तार धीमी पड़ी है वह दोबारा से रफ्तार न पकड़ जाए। क्योंकि विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए ज्यादातर लोग बिना मास्क के ही पहुंचे हुए थे।

भाजपा सांसद धर्मबीर सिंह के आवास के बाहर तीन कृषि कानूनों की प्रतियां जलाते किसान।
भाजपा सांसद धर्मबीर सिंह के आवास के बाहर तीन कृषि कानूनों की प्रतियां जलाते किसान।

वहीं लॉकडाउन व राज्य आपदा प्रबंधन के नियमों को तोड़ रहे प्रदर्शनकारी किसानों को जिला पुलिस भी विवश होकर देखती रही और चालान तक नहीं कर पाई। अगर यहीं हालात बने रहे और प्रशासन भी इस महामारी में विवश हो गए तो कोरोना जैसी महामारी के कहर से जिले को कोई नहीं बचा पाएगा। ऐसे में प्रशासन को भी ऐसे प्रदर्शन पर रोक लगानी चाहिए।

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर जिले की फौगाट, सांगवान, श्योराण, चिड़िया पचगामा, इमलोटा सतगामा खाप समेत विभिन्न किसान, मजदूर, सामाजिक, व्यापारी और कर्मचारी संगठनों ने भाजपा सांसद धर्मवीर सिंह के आवास और बाढड़ा से जजपा विधायक नैना सिंह के कार्यालय पर प्रदर्शन कर घेराव किया।

इस दौरान तीन काले कानूनों की प्रतियां जलाई। अनहोनी को आशंका के चलते बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात रहा। इससे पहले सुबह 10 बजे से ही किसान और मजदूर मेजबान चौक के पास इकट्ठा होने शुरू हो गए थे। करीब सवा 11 बजे सभी जुलूस के रूप में प्रदर्शन करते हुए बाढड़ा से जजपा विधायक नैना सिंह के कार्यालय के बाहर पहुंचे और 10 मिनट तक तीन काले कानून रद्द करो, टोहाना में गिरफ्तार किसानों को रिहा करो के नारे लगाए।

इसके बाद किसानों ने वहीं तीन काले कानूनों की प्रतियां जलाई। प्रदर्शनकारियों ने उसके बाद भाजपा सांसद धर्मबीर सिंह को कोठी की ओर प्रस्थान किया। किसानों और मजदूरों ने धर्मवीर सिंह के निवास पर पहुंचने के बाद तीन काले कानूनों की प्रतियों को आग के हवाले किया।

प्रदर्शन में फौगाट खाप उन्नीस के प्रधान बलवंत नम्बरदार, खाप सांगवान 40 के सचिव नरसिंह डीपीई, श्योराण खाप पच्चीस के प्रधान बिजेंद्र, चिड़िया पचगामा के प्रधान राजबीर शास्त्री, इमलोटा सतगामा के ओमप्रकाश कलकल, पूर्व विधायक नृपेंद्र, राजू मान, सुरेश फौगाट, धर्मपाल, शमशेर फौगाट, सूरजभान सांगवान, कमलेश, सुरेन्द्र, इनेलो नेता सत्यवान शास्त्री, नितिन जांघू, राजकरण, सुरेंद्र कटारिया, विद्यानन्द, राजकुमार, धर्मेन्द्र, नत्थूराम फौगाट, योगेश कलकल, प्रवीण चेयरमैन, रामकुमार कादयान, सीताराम फौगाट, विद्यानंद, डॉ. चंदन, धर्मबीर, रामकुमार सोलंकी, राकेश, महीपाल, प्रदीप, सत्यवान आदि मौजूद थे।

कितलाना टोल पर चल रहे किसानों के धरने पर मौज्ूद किसान।
कितलाना टोल पर चल रहे किसानों के धरने पर मौज्ूद किसान।

किसानों ने किया जेल भरने का ऐलान

चरखी दादरी| टोहाना में गिरफ्तार किए गए किसानों को अगर जल्दी रिहा नहीं किया गया तो जिले के किसान भी सरकार की जेल भरने को तैयार हैं। इस बात का ऐलान खाप सांगवान 40 के सचिव नरसिंह डीपीई ने कितलाना टोल पर चल रहे किसानों के अनिश्चितकालीन धरने को संबोधित करते हुए किया। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों को बेबस और लाचार ना समझे।

उन्होंने कहा कि जैसे ही संयुक्त किसान मोर्चा आदेश देगा दोनों जिले के किसान और मजदूर जेलों को पूरी तरह से भर देंगे। सरकार इस बारे में गंभीरता से विचार करें वरना जो भी परिणाम होंगे उसके लिए पूर्णतया जिम्मेवारी सरकार की होगी। धरने का मंच संचालन रणधीर ने किया। इस अवसर पर मा. ताराचंद, सूरजभान सांगवान, सुरेंद्र, जगदीश, मीरसिंह, देशराम, विद्यानंद, मा. कर्ण सिंह, राजेन्द्र, सूबे सिंह, कुलदीप, सत्यवान, सूबेदार सतबीर सिंह, पूर्व सरपंच समुंद्र सिंह आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...