पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दोबारा शुरू होगी खरीद:21 से 27 नवंबर तक सरकारी भाव पर खरीदा जाएगा बाजरा

चरखी दादरी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दादरी। अनाज मंडी में पड़ा हैफेड द्वारा खरीदा गया बाजरा।

जिले में अब 21 नवंबर से दोबारा बाजरे की सरकारी खरीद शुरू की जाएगी। इसके लिए पंजीकरण करवाने वाले किसानों की दोबारा वैरिफिकेशन करवाई जा रही है। अब सिर्फ उन किसानों का ही बाजरा खरीदा जाएगा जिनका बाजरा एक बार भी नहीं बिका है। अब तक करीब 23 हजार पंजीकृत किसानों का बाजरा खरीदा जा चुका है और करीब 7 हजार किसान अभी बचे हुए हैं। दिवाली से पहले ही सरकारी खरीद एजेंसी हैफेड ने बाजरा खरीद बंद कर दी थी। अब नए सिरे से दोबारा 21 नवंबर से लेकर 27 नवंबर तक बाजरे की सरकारी खरीद शुरू की जाएगी। इसके लिए जिन किसानों ने अपनी फसलों का पंजीकरण करवाया हुआ था उनकी दोबारा से वैरिफिकेशन करवाई जा रही है। इसके लिए पटवारी व गिरदावर गांव गांव जाकर बचे हुए किसानों की वैरिफिकेशन करने में लगे हुए हैं।

जिले में करीब 30 हजार किसानों ने पंजीकरण करवाया हुआ था। इनमें से दिवाली तक करीब 23 हजार 369 पंजीकृत किसानों का बाजरा सरकारी भाव पर हैफेड खरीद कर चुका है। अब जिले में करीब 7 हजार पंजीकृत किसान बचे हैं जिनका एक बार भी बाजरा नहीं खरीदा गया है। इसलिए इन किसानों का बाजरा खरीदने के लिए किसानों की लिस्ट पटवारी व गिरदावर को दी गई है जो इन किसानों की गांव में जाकर रि वैरिफिकेशन कर रहे हैं। कहीं एक सप्ताह खरीद के दौरान पहले बाजरा बेच चुके किसान ही दोबारा बाजरा बेचने न आ सके। इसलिए यह वैरिफिकेशन करवाई जा रही है। जिनकी वैरिफिकेशन होगी उन्हीं किसानों को टोकन देकर बाजरा खरीदा जाएगा।

6 लाख 53 हजार क्विंटल बाजरा खरीदा जा चुका
हैफेड के परचेज मैनेजर विरेंद्र सिंह ने बताया कि हैफेड अब तक 6 लाख 53 हजार क्विंटल बाजरा खरीद चुकी है और 4 लाख 82 हजार बाजरे का उठान हो चुका है। विरेंद्र सिंह ने कहा कि अब दोबारा से 21 नवंबर से बाजरा खरीद शुरू की जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें