मरीजों का बेहतर उपचार करने में मदद मिलेगी:प्लांट में बनी ऑक्सीजन की गुणवत्ता जांच रिपोर्ट आई पॉजिटिव, अब हर मिनट में 500 एमटी होगी तैयार

चरखी दादरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिविल अस्पताल में मरीजों की सुविधा के लिए 130 बेड के साथ अब लगाए जाएंगे ऑक्सीजन प्वाइंट

अब जल्द ही सिविल अस्पताल में लगे प्लांट से ऑक्सीजन बननी शुरु हो जाएगी। क्योंकि ऑक्सीजन प्लांट में जो ऑक्सीजन तैयार हुई है उसे दवा के रूप में प्रयोग करने से पहले उसकी गुणवत्ता जांच के लिए सेंपल भेजा गया था।

गुरुवार को जिले के प्लांट में बनी ऑक्सीजन पूरी तरह सुरक्षित पाई गई है। ऐसे में अब कोरोना महामारी हो या फिर आम बीमारियों में जरूरत पड़ने पर ऑक्सीजन की कमी नहीं आएगी।

दो महीने पहले हो गया था शुभारंभ

डीआरडीओ ने जुलाई माह में सिविल अस्पताल के अंदर ऑक्सीजन प्लांट लगाना शुरु कर दिया था। जो अगस्त के पहले सप्ताह में ही लगाकर तैयार कर दिया था। 12 अगस्त को सीएमओ डॉ सुदर्शन पंवार ने शुभारंभ कर दिया था। लेकिन इसमें बनी ऑक्सीजन की गुणवत्ता जांच करवाने से पहले इसका प्रयोग नहीं किया जा सकता था। इसलिए इसमें अब तक ऑक्सीजन तैयार नहीं की गई थी।

सिलेंडर लगाने की नहीं पड़ेगी जरूरत

सिविल अस्पताल 100 बेड का बनाया हुआ है। वहीं अब इसमें अलग से 30 बेड कोविड 19 सेंटर भी बनाया हुआ है। यानि 130 बेड के साथ अब ऑक्सीजन प्वाइंट लगाए जाएंगे। जब भी किसी मरीज को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ेगी तो सिलेंडर का झंझट दूर हो जाएगा। सीधे प्वाइंट से ही मरीज को ऑक्सीजन लगाई जा सकेगी।

दूसरी लहर में ऑक्सीजन की हुई थी कमी

कोरोना की दूसरी लहर में ज्यादातर मरीजों में ऑक्सीजन लेवल घटने की शिकायत मिल रही थी। ऐसे में हर तरफ ऑक्सीजन को लेकर मारामारी चल रही थी। ऐसे में सरकार ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर आने से पहले हर जिले में ऑक्सीजन प्लांट बनाने शुरु कर दिए थे।

बेहतर उपचार करने में मिलेगी मदद

सीएमओ डॉ.सुदर्शन पंवार ने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट में बनने वाली ऑक्सीजन का सेंपल गुणवत्ता जांच के लिए भेजा गया था। जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अब हर मिनट 500 एमटी ऑक्सीजन बन सकेगी। ऑक्सीजन प्लांट शुरु होने से मरीजों का बेहतर उपचार करने में मदद मिलेगी।

खबरें और भी हैं...