पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अनदेखी:स्वच्छता रैकिंग में अव्वल रहने और पीएम से सम्मानित होने के बाद मात्र 25 दिन में ही बिगड़ी पब्लिक टाॅयलेट्स की हालत

चरखी दादरी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वच्छता सर्वेक्षण में बेहतर रैंकिंग पाने के लिए नगर परिषद ने करवाई थी सफाई, अब नदारद हो रहीं सुविधाएं

स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रदेश भर में पहला स्थान पाने वाले चरखी दादरी शहर में बनाए गए सार्वजनिक शौचालयों की हालत मात्र 25 दिन बाद ही खस्ता हो गई है। स्वच्छता सर्वेक्षण में बेहतर रैंकिंग पाने के लिए नगर परिषद ने एक बार तो शहर के सभी सार्वजनिक शौचालयों को सभी सुविधाओं सहित साफ सुथरा कर दिया था। लेकिन अब इन टॉयलेट को प्रयोग करना तो दूर की बात वहां खड़े होकर सांस भी नहीं ले सकते। ज्यादातर शौचालयों में पानी तक की सुविधा नहीं है और कुछ में पानी का प्रयोग करने के लिए पाइप और टोंटी तक गायब हैं। दूसरी तरफ इनकी अंदर जाकर हालत देखी जाए तो लगता है बरसों से यह साफ ही नहीं किए गए हों। खुद वाइस चेयरमैन व शहरवासियों का कहना है कि सार्वजनिक शौचालयों की हालत बेहतर रैंकिंग लेने के लिए ही सुधारी गई थी लोगों की सुविधा के लिए नहीं।

शहर को देश भर में मिला है 11वां स्थान

स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 इस बार 6 हजार अंकों का था। इसमें चरखी दादरी शहर ने 2 हजार 946 अंक प्राप्त कर देश में 11वां और प्रदेश में पहला स्थान हासिल किया था। इससे पहले 2018 में यह रैंक 315वां था और 2019 में दादरी की 850वीं रैंक आई थी। ऐसे में लगातार साफ सफाई व सुविधाओं के मामले में दादरी शहर फिसलता जा रहा था। लेकिन 2020 में प्रदेश के अंदर पहला स्थान हासिल करते हुए देशभर में 11वां स्थान पाया। 20 अगस्त को खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने ऑनलाइन आयोजन कर चरखी दादरी शहर को सम्मानित किया था। शायद पीएम मोदी से सम्मान पाने का नप अधिकारियों पर ऐसा खुमार चढ़ा है कि इसके बाद सार्वजनिक शौचालयों की सफाई ही करवानी बंद कर दी गई है।

अिधकतर शौचालयों से टोंटी और पाइप गायब

दैनिक भास्कर टीम ने स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रदेश के अंदर पहला स्थान पाने वाले दादरी शहर में ग्राउंड लेवल पर पड़ताल की। इस दौरान टीम ने शहरवासियों व खुद नगर परिषद वाइस चेयरमैन से भी बातचीत की। सभी से बातचीत व ग्राउंड लेवल पर साफ सफाई देखने के बात पता चला कि स्वच्छता सर्वेक्षण में बेहतर रैंक हासिल करने के लिए एक बार साफ सफाई की गई थी। शहर के सार्वजनिक शौचालयों को जांचा तो किसी में भी पूरी सुविधाएं नहीं थी। शौचालयों में सबसे जरूरी पानी होता है जो नहीं मिला। शौचालयों में लगी सीटे खराब व गंदगी से अटी हुई थी।

सैनिटाइजर तक का नहीं प्रबंध

अनलॉक के बाद से शहर में लोगों की भीड़ काफी बढ़ गई है। ऐेसे में इन शौचालयों में बिना पानी भी लोग प्रयोग में ले लेते हैं। ऐसे में यहां पूरे दिन कितने लोग आते जाते हैं और उनके कीटाणु वहीं रह जाते हैं। अगर ऐसे में इन शौचालयों की साफ सफाई नहीं हुई तो कोरोना संक्रमण फैलने का डर बना रहता है। ऐसे में ज्यादा आवागमन वाली जगहों पर सैनिटाइजर रखने के निर्देश हैं। मगर सबसे ज्यादा संक्रमण फैलाने वाले सार्वजनिक शौचालयों में ही सैनिटाइजर नहीं रखवाया हुआ है। यहां तक कि एक साबुन की बट्‌टी तक नहीं है।

मोबाइल टॉयलेट शहर से बाहर छुपाकर रखे

नगर परिषद के पास दो मोबाइल टॉयलेट हैं। जिन्हें ऐसी जगहों पर खड़ा करने के लिए खरीदा गया था जहां लोग खुले में शौच करने जाते हैं। ऐसे में कुछ दिन तो एक मोबाइल टॉयलेट महेंद्रगढ़ चुंगी नजदीक खड़ा किया था और दूसरा रेलवे लाइनों के नजदीक। मगर नगर परिषद इनमें भी पानी व साफ सफाई की सुविधा नहीं दे पाया। इसलिए अब इन दोनों मोबाइल टॉयलेट को शहर से बाहर रावलधी भिवानी लिंक रोड बाईपास पर बने कंपोस्टिंग प्लांट के पास छुपाकर रखा गया है। जबकि शहर में सार्वजनिक शौचायल व मोबाइल टॉयलेट नहीं होने से लोग खुले में शौच जाने को मजबूर हैं।

बेहतर रैंकिंग के लिए की थी लीपापोती: श्योराण

शहर में सार्वजनिक शौचालय तो क्या वार्डों में भी साफ सफाई नहीं हो रही है। स्वच्छता सर्वेक्षण में बेहतर रैंक पाने के लिए एक बार सभी सार्वजनिक शौचालयों की साफ सफाई करवा कर सुविधा दी गई थी। '' -दीपक श्योराण, वाइस चेयरमैन, नगर परिषद।

जल्द ही सफाई के लिए जारी होंगे टेंडर: चेयरमैन

उन्होंने सफाई कर्मचारियों को हररोज सार्वजनिक शौचालयों की साफ सफाई करने के निर्देश दिए हुए हैं। मैं अधिकारियों को लेकर इनका निरीक्षण करूंगा। हम जल्द सफाई के लिए टेंडर करेंगे। इसके बाद लोगों को बेहतर सुविधा मिल सकेगी।'' -संजय छपारियां, चेयरमैन, नप

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें