रोष:बहाली के लिए संघर्ष कर रहे बर्खास्त पीटीआई का धरना 107वें दिन भी जारी

चरखी दादरी2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लघु सचिवालय परिसर में धरने पर बैठे पीटीआई। - Dainik Bhaskar
लघु सचिवालय परिसर में धरने पर बैठे पीटीआई।

नौकरी बहाली के लिए संघर्ष कर रहे बर्खास्त पीटीआई का आंदोलन जिला सचिव उदय सिंह की अध्यक्षता में जिला सचिवालय प्रागंण में मंगलवार को 107वें दिन भी सुचारू रूप से चला। बबीता, सुमन, विजय कुमार व सुनील कुमार पीटीआई अनशनकारी रहे। उदय सिंह ने उपस्थित पीटीआई को बताया कि आज एसकेएस के साथ मिलकर कर्मचारियों से संबंधित विभिन्न मांगों को लेकर दोपहर 1 बजे उपयुक्त को ज्ञापन सौंपने का कार्यक्रम है।

जिले के गांव दातौली के एक फौजी के शहीद हो जाने के कारण पीटीआई व एसकेएस के जिले के सभी पदाधिकारियों ने साथ मिलकर शहीद की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन व्रत रखा तथा शहर में मौन प्रदर्शन करते हुए अपनी मांगों से संबंधित ज्ञापन उपायुक्त को सौंपा। मुख्य वक्ता एसकेएस जिला प्रधान राजकुमार ने अपने संबोधन में कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार कर्मचारियों, किसानों, मजदूरों व कच्चे कर्मचारियों की घोर विरोधी है तथा सभी विभागों को ठेकों पर देना चाहती है व सभी विभागों को निजी हाथों में सौपना चाहती है।

आज जो भी विधेयक व कानून सरकार लागू कर रही है उनमें सिर्फ और सिर्फ कुछ उंचे घरानों को फायदा पहुंचाना चाहती है। आज अपनी जिद को पूरा करने के लिए प्रदेश व केन्द्र सरकार सभी नियमों की अनदेखी कर रही है। पीटीआई ने आज प्रदेश के सभी कर्मचारियों, किसानों व सामाजिक संगठनों को गलत नीतियों के खिलाफ संघर्ष करने के लिए मंच दिया है।

उन्होंने सरकार को चेताया कि समय रहते पीटीआई की पुनः नौकरी बहाल करें अन्यथा आने वाले समय में इनकी पुनः बहाली के लिए और बड़े-बड़े कर्मचारी आंदोलन होंगे। यहां मा. रामरतन, रणधीर, हेमसा जिला अध्यक्ष विजय लांबा, कृष्ण, कृष्ण, रमेश, सुदर्शन कुमार, दयानन्द, रविन्द्र, जगबीर सिंह, सतबीर सरोहा, राजेश शर्मा, सुभाष फौजी, सूरत सिंह, महेन्द्र सांगवान आदि पीटीआई व डीपीई उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...