पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना काल:ब्लैक फंगस के उपचार के लिए किए गए पुख्ता प्रबंध

चरखी दादरी19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उपायुक्त राजेश जोगपाल ने कहा है कि हरियाणा सरकार द्वारा ब्लैक फंगस (म्यूकोरमाईकोसिस) को एक अधिसूचित बीमारी घोषित किया गया है। सरकार द्वारा ब्लैक फंगस पर नियंत्रण के लिए पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।

उपायुक्त ने बताया है कि ब्लैक फंगस के लक्षणों में आंख और कान के आसपास दर्द या लालिमा, सिरदर्द, सांस लेने में परेशानी, मानसिक भ्रम, बुखार, खांसी एवं उल्टी में खून इत्यादि लक्षण दिखाई देते ही डॉक्टर से संपर्क करें। इस बीमारी से बचाव के लिए निर्माण स्थलों पर जाते समय मास्क का प्रयोग करें, मिट्टी, काई या खाद इत्यादि का कार्य करते समय जूते, लंबी पतलून, लंबी बाजू की शर्ट एवं दस्ताने पहने।

व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें तथा प्रतिदिन स्नान जरूर करें और खून में ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित रखें। उपायुक्त ने कहा कि मरीजों के इलाज के लिए एम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन की आवश्यकता वाले सभी अस्पतालों को स्वास्थ्य विभाग हरियाणा की वेबसाइट haryanahealth.nic.in पर उपलब्ध दिशा-निर्देशो के अनुसार निर्धारित प्रोफार्मा पर ई मेल amphobharayana@gmail.com पर आवेदन करना होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना से ठीक होने वाले व्यक्ति व सुगर के मरीज अपने ब्लड ग्लूकोज का ध्यान रखें, स्टेरॉयड का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह पर सही खुराक और सही अवधि के साथ ही करें।

ऑक्सीजन थैरेपी के लिए साफ और जीवाणु रहित जल का ही इस्तेमाल करें। एंटीबायोटिक और एंटीफंगल दवाओं का सोच समझ कर इस्तेमाल करें। उपायुक्त ने जिला वासियों से अपील की है कि वे चेतावनी के संकेत और लक्षणों को अनदेखा न करें व लक्षण नजर आने पर इलाज में देरी न करें।

खबरें और भी हैं...