सुरेंद्र आर्य ने कहा:सूर्य नमस्कार भारतीय व्यायाम, इससे शरीर का सर्वांगीण विकास होता है

चरखी दादरी8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा योग आयोग के अंतर्गत आजादी के अमृत महोत्सव पर 75 करोड़ सूर्य नमस्कार मुहिम के अंतर्गत इन दिनों योग स्पोर्ट्स एसोसिएशन द्वारा शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में गतिविधियों को आयोजित करवाया जा रहा है। इसके तहत इन सभी जगहों पर पहुंच कर विशेष तौर पर युवाओं को भारतीय संस्कृति के प्रति जागरूक किया गया। इसी कड़ी में शुक्रवार को एसोसिएशन सचिव सुरेंद्र आर्य व ब्रह्मा कुमारीज से सुनील कुमार ने गांव तिवाला के खेल ग्राउंड में युवाओं को सूर्य नमस्कार का अभ्यास कराया। उन्होंने बताया कि सूर्य नमस्कार भारतीय व्यायाम है और इससे पूरे शरीर का सर्वांगीण विकास होता है।

योग की एक मुद्रा है जो पूरे शरीर को फिट रखती है और मसल्स को फ्लैक्सिबल बनाती है। विशेषज्ञों का मानना है कि यह आसन करने से मणिपुर चक्र, जो हमारी नाभि के पीछे का हिस्सा होता है वह एक्टिवेट हो जाता है। ऐसा कहा जाता है कि योग को सही तरीके से करने पर व्यक्ति की सहज क्षमताएं बढ़ जाती हैं। सूर्य नमस्कार योगासनों में सर्वश्रेष्ठ है। यह अकेला अभ्यास ही साधक को संपूर्ण योग व्यायाम का लाभ पहुंचाने में समर्थ है। इसके अभ्यास से साधक का शरीर निरोग और स्वस्थ होकर तेजस्वी हो जाता है। ‘सूर्य नमस्कार’ स्त्री, पुरुष, बाल, युवा तथा वृद्धों के लिए भी उपयोगी बताया गया है।

खबरें और भी हैं...