पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कलानौर से चोरी हुई सरसों का मामला:कोहलावास और घसौला के गोदामों का भी इंचार्ज था आरोपी प्रचेज अफसर, जांच दायरा बढ़ा तो और मिल सकती है गड़बड़ी

चरखी दादरी18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के तेल मिलों पर दूसरे दिन भी जांच में जुटी रही तीन टीमें, आज हो सकता है खुलासा

कलानौर वेयर हाउस के गोदाम से चोरी हुई दो करोड़ की सरसों को लेकर दादरी जिले के तेल मिलों पर दूसरे दिन भी तीन टीमें जांच में जुटी रही। गुरुवार को इस मामले को लेकर कोई खुलासा हो सकता है। वहीं, कलानौर गोदाम से चोरी हुई सरसों का मास्टर माइंड दादरी मंडी का हैफेड प्रचेज अधिकारी और गोदाम इंचार्ज एक ही व्यक्ति है।

ऐसे में उसके अधीन आने वाले वेयर हाउस के कोहलावास और घसौला के गोदाम भी शक के दायरे में हैं। अब इन गोदामों की अगर जांच की जाए तो मिल गड़बड़ी मिल सकती है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जिस सरसों को लेकर दादरी जिला प्रशासन जांच में जुटा हुआ है उसका मास्टर माइंड वेयर हाउस तीनों गोदामों का इंचार्ज और प्रचेज अधिकारी राजेश ग्रेवाल ही है।

गीली सरसों को भी गोदामों में भरे जाने की आशंका

ग्रेवाल की जिन आढ़तियों के साथ सेटिंग होती थी उनसे पैसा बनाने के चक्कर में कट्‌टों में गीली सरसों तक भर दी जाती थी। खरीद के दौरान बारिश आती थी तो सरसों का भीगना लाजिमी था। ऐसे में 40 से 42 किलो का पानी में भीगने के कारण 50 किलो तक पहुंच जाता था। उसे जल्द से जल्द कट्‌टों में भरकर गोदामों तक पहुंचाने का जिम्मा ग्रेवाल का रहता था।

प्रचेज अधिकारी के हाथ में होती है बढ़त व घटत दिखाना

प्रचेज अधिकारी एवं गोदाम इंचार्ज के हाथ की बात होती है कि किस गाड़ी में डले माल में घटत दिखाए या बढ़त। सेटिंग वाले आढ़तियों के परेशान ना करके गोदाम इंचार्ज अपनी पुड़िया बनाने के चक्कर में 5 से 20 कट्टों तक की घटत तक दिखा देते हैं। आढ़ती में भी कमियां होने के कारण वो भी कुछ अधिक नहीं बोलता।

खरीद से पहले ही इधर उधर की जा सकती है महंगे भाव पर

सूत्रों के अनुसार सरसों की खरीद मार्च आखिरी में शुरू होती या फिर अप्रैल में। इस कारण से गोदाम इंचार्ज पहले से रखी सरसों को कुछ समय के लिए इधर से उधर महंगे दामों में तेल मिलों तक पहुंचा सकता है। जैसे ही सरसों की खरीद शुरू हुई वो इस कमी को सस्ते भाव की सरसों से पूरा कर देता है। लेकिन इस बार ऐसा कर पाना शायद संभव नहीं हो पाया। क्यों इस बार सीजन में सरसों 7 हजार रुपये तक बिकी है। जबकि पहले यह 45 से 46 सौ रुपये में मिल जाती थी।

कमेटी गठित करने के बाद एक जून से गायब है राजेश ग्रेवाल

31 मई को हैफेड के जिला प्रबंधक भिवानी द्वारा एक कमेटी गठित की गई थी। जिसे स्टेट वेयर हाउस कोहलावास के अंतर्गत आने वाले सरसों के गोदामों की जांच करनी थी। कलानौर अनाज मंडी स्थित गोदाम में रखे सरसों के बोरों की भी गिनती की गई। जहां पर मात्र 1727 बोरे मिले। रिकार्ड के अनुसार गोदाम से सरसो के 6512 बोरे कम पाए गए।

कलानौर, चरखी-दादरी और घसौला के गोदाम के इंचार्ज राजेश ग्रेवाल है। जो कमेटी गठित करने के बाद से ही लापता है। इस संबंध में सिक्योरिटी एजेंसी एसआइएस से भी सभी दस्तावेज मांगे गए, लेकिन उन्होंने जवाब दिया कि सभी दस्तावेज राजेश ग्रेवाल के पास ही है। जिसका मोबाइल नंबर एक जून से बंद आ रहा है।

हैफेड के 3 अधिकारी हो चुके हैं सस्पेंड

कलानौर गोदाम से सरसों चोरी के मामलो में हरियाणा स्टेट वेयर हाउस कॉरपोरेशन ने डीएम, मैनेजर और गोदाम इंचार्ज राजेश ग्रेवाल को सस्पेंड कर दिया गया है। पुलिस समेत महकमा भी इस मामले में जांच में जुटा हुआ है। वहीं दादरी जिला प्रशासन अपने लेवल पर तेल मिलों के रिकॉर्ड को खंगाल रहा है कहीं यहां तो सरसों नहीं बेची गई।

रिकॉर्ड कर रहे हैं एकत्रित : आईओ

​​​​​​​कलानौर गोदाम से चोरी हुई सरसों की जांच कर रहे अधिकारी एसआई सतीश कुमार ने बताया कि अभी तो वो महकमे से पूरा रिकॉर्ड एकत्रित कर रहे हैं। अभी तक हमारे पास जो रिकॉर्ड पहुंचा है वह तो माल को लगभग पूरा दिखा रहा है। हमने हैफेड के डीएम समेत अन्य अधिकारियों भी बुलाकर बातचीत की है। बाकि तो जांच के बाद ही कुछ पता चल पाएगा।

अभी जांच चल रही है : एसडीएम

​​​​​​​ऑयल मिलों की जांच रूटीन की है। यह हम समय समय पर करवाते रहते हैं। अभी हमारी टीमें मिलों की रिकार्ड और स्टॉक की जांच कर मिलान कर रही हैं। जांच पूरी होने पर ही गड़बड़ कितनी है या नहीं है कुछ कह पाएंगे।''-डॉ. विरेंद्र सिंह अहलावत, एसडीएम।

खबरें और भी हैं...