पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जलभराव बरपा रहा कहर:20 दिनों से शहर की सभी बाहरी कॉलोनियों में तीन फुट तक जलभराव, मकानों में दरारें आने से लोगों को आर्थिक नुकसान

चरखी दादरी2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दादरी। जलभराव के कारण मकानों की दीवारों पर चढ़ी नमी। - Dainik Bhaskar
दादरी। जलभराव के कारण मकानों की दीवारों पर चढ़ी नमी।
  • 80% शहर में अभी भी बरसाती पानी जमा, अधिकारियों से आश्वासन से ज्यादा कुछ नहीं मिला, लोग खामियाजा भुगतने को मजबूर
  • जिले में 14 दिन के अंदर ही 4 डेंगू के मरीज और 5 मलेरिया संक्रमित मरीज भी सामने आ चुके

जिले में एक तरफ मलेरिया व डेंगू ने अपनी दस्तक देनी शुरु कर दी है। वहीं दूसरी तरफ शहर की सभी आउटर कॉलोनियों में बरसाती पानी भरा हुआ है। इससे मक्खी मच्छरों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। बावजूद इसके पानी निकासी की जगह सिर्फ फोगिंग ही करवाई जा रही है। फिलहाल 80 फीसदी शहर में अभी भी जलभराव की समस्या बनी हुई है। लोगों को आने जाने में परेशानी हो रही है।

वहीं अधिकारी सिर्फ जलभराव वाली जगहों का निरीक्षण कर जल्द समाधान का आश्वासन देकर चले जाते हैं। इसी लापरवाही का शहरवासी खामियाजा भुगत रहे हैं। शहर में करीब 20 दिनों से जलभराव की समस्या बनी हुई है। यह पानी गलियों में भरा होने से मकानों की दीवारों में नमी चढ़नी शुरु हो गई है। मकानों में दरारें आनी शुरु हो गई हैं और ऊपर का प्लस्टर भी झड़ने लग गया है। इससे लोगों को आर्थिक नुकसान हो रहा है।

मकानों के बीच पड़े खाली प्लॉटों व गलियों में बारिश का पानी जमा

शहर की जितनी भी आउटर कॉलोनियां हैं सभी में बरसाती पानी अभी भी 2 से 3 फुट तक भरा हुआ है। मकानों के बीच पड़े खाली प्लॉट व गलियों में यह पानी जमा हो चुका है। यहां जमा पानी पर काई की चादर बिछ गई है। इससे साफ हो गया है कि यहां पानी कई दिनों से भरा हुआ है और इसकी निकासी नहीं हो पाई है।

जिले में मलेरिया व डेंगू ने दस्तक दी, एक मरीज शहर में भी मिला

जिले में पिछले महीने तक एक भी मलेरिया या डेंगू का मरीज नहीं था। मगर इस महीने बारिश के बाद हुए जलभराव से मच्छरों की संख्या काफी ज्यादा बढ़ गई है। जिससे 14 दिन के अंदर ही 4 डेंगू मरीज और 5 मलेरिया संक्रमित मरीज सामने आ चुके हैं। वहीं एक डेंगू मरीज तो शहर में ही मिला है।

जमा बरसाती पानी के नहीं निकालने से मक्खी-मच्छरों की संख्या बढ़ी

जिला प्रशासन शहर से पानी निकासी नहीं करवा पा रहा है। ऐसे में मच्छर मक्खियों को मारने के लिए फोगिंग करवा रहा है। मगर इसका कोई असर भी दिखाई नहीं दे रहा है। क्योंकि यह फोगिंग पिछले एक सप्ताह से लगातार करवाई जा रही है। जब तक जमा बरसाती पानी निकाला नहीं जाएगा मक्खी मच्छरों की संख्या बढ़ती ही जाएगी।

इन आउटर कॉलोनियों में भरा पानी

शहर की ज्यादातर आउटर कॉलोनियों में पिछले 20 दिनों से बरसाती पानी भरा हुआ है। पानी निकासी का प्रबंध नहीं होने से यहां लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही हैं। इनमें प्रेम नगर, गांधी नगर, चंपापुरी, विश्वकर्मा कॉलोनी, हरीनगर, प्रोफेसर कॉलोनी, दयानंद कॉलोनी, महेंद्रगढ़ चौक, गामडी, चरखी दरवाजा कॉलोनी, कबीर नगर, बाल्मीकि बस्ती में जलभराव की समस्या बनी हुई है।

19 को महापंचायत कर लेंगे बड़ा फैसला : जांघू

जन आंदोलन समिति के संयोजक नितिन जांघू ने कहा कि शहर के 80 फीसदी एरिया में बरसाती पानी भरा हुआ है। जिससे मक्खी मच्छर बढ़ रहे हैं। यहीं कारण है कि हर दूसरे घर में बुखार का मरीज मिलने लगा है। प्रशासन पानी निकासी का कोई प्रबंध नहीं कर पा रहा है। जिससे यह परेशानी बढ़ती जा रही है। जन आंदोलन 19 सितंबर को शहर में महापंचायत करेगा। जब तक समाधान नहीं हुआ तो बड़ा फैसला लिया जाएगा।

मैंने मंगलवार को कई जगहों पर जलभराव का निरीक्षण किया है। जहां ज्यादा जलभराव है वहां कच्ची खाई खोदकर पानी निकाला जाएगा। वहीं सीवर मैनहोल की ब्लॉकेज खोलकर पानी निकाला जा रहा है। हमारा प्रयास है जल्द ही जलभराव की समस्या से निजात दिला दी जाएगी।'' -अमित मान, सीटीएम।

खबरें और भी हैं...