पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसान आंदोलन:किसान धरने से महिलाओं की हुंकार: आजादी के लिए पहले लड़े थे गोरों से अब लड़ेंगे चोरों से

चरखी दादरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दादरी। कितलाना टोल पर नारेबाजी करती महिलाएं। - Dainik Bhaskar
दादरी। कितलाना टोल पर नारेबाजी करती महिलाएं।
  • श्रद्धांजलि-धरने के 176वें दिन कितलाना टोल पर रानी लक्ष्मीबाई को याद किया

महान वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई ने देश की आजादी के लिए 1857 में लड़े गए पहले स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभाते हुए अपने प्राण न्योछावर कर दिए थे। यह बात कितलाना टोल पर अध्यक्ष मंडल की सदस्य धर्मा देवी और ब्रह्मा देवी ने धरने को संबोधित करते हुए कहीं।

उन्होंने कहा कि हमारे बुजुर्गों ने आजादी से पहले गोरों से लड़ाई लड़ी थी और अब हमें चोरों के खिलाफ संघर्ष करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे हकों पर सरेआम डाका डाला जा रहा है और पूंजीवाद को बढ़ावा दिया जा रहा है। इससे पहले धरने पर दो मिनट का मौन रखकर रानी लक्ष्मीबाई को श्रद्धांजलि दी गई।

महिला किसान नेत्री संतोष देशवाल ने कहा कि गुलामी की बेड़ी तोडऩे के बाद हमारा दुर्भाग्य है कि जो सपने देश की आवाम ने देखे थे वो सब धूल में मिल गए हैं। सरकार का गठन लोगों की, लोगों द्वारा और लोगों के लिए होता है लेकिन वर्तमान में सरकार का अर्थ पूंजीपतियों की, पूंजीपतियों द्वारा और पूंजीपतियों के लिए होकर रह गया है। देश के प्रधानमंत्री का ध्यान महज अपने चेहते महाधनवान मित्रों के हित साधने पर लगा हुआ है। आम गरीब जनता के दुख तकलीफ से उन्हें कोई सरोकार नहीं है। यही वजह है कि मोदी को इतने लंबे समय से आंदोलनकारियों से बात तक करने की फुर्सत नहीं है।

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर कितलाना टोल पर धरने के 176वें दिन फौगाट खान प्रधान बलवंत सिंह फौगाट, सांगवान खाप चालीस के सचिव नरसिंह डीपीई, श्योराण खाप पच्चीस के प्रधान बिजेंद्र सिंह, जाटू खाप के मास्टर राजसिंह, सुभाष यादव, धर्मा देवी, ब्रह्मादेवी ने संयुक्त रूप से अध्यक्षता की। उन्होंने कहा कि दासता से पीछा तो छुड़ गया लेकिन देश के अन्नदाता के हालात नहीं बदले हैं। इसलिए आज देश के किसान मजदूर एकजुट होकर अपने वाजिब हकों के लिए संघर्ष कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब तक तीनों कृषि कानून रद्द नहीं होते हमारा आंदोलन जारी रहेगा।

यहां सूरजभान सांगवान, सुरेन्द्र सिंह, सुखदेव, रणधीर कुंगड़, मीरसिंह सिंहमार, राजू मान, कमल प्रधान, जागेराम डीपीई, राजबीर पूर्व सरपंच, आचार्य देवी सिंह, मंदौला पूर्व सरपंच संजय सांगवान, विनय सीटू, पूर्व थानेदार करण सिंह फौगाट, ओमपति, सावित्री, राजबाला, प्रेम, मलही देवी, चंद्रकला, अंतर कौर, रामप्यारी इत्यादि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...